ATEWA PENSION BACHAO MANCH : एक अप्रैल को काला दिवस मनाएगा अटेवा, शिक्षक निकालेंगे मशाल जुलूस, - primary ka master | basic shiksha news | updatemarts | uptet news | basic shiksha parishad up
  • primary ka master basic shiksha news :

    सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा 2019 आवेदन करें

    69000 सहायक अध्यापक भर्ती 2019 हेतु ऑनलाइन आवेदन करने हेतु क्लिक करें ।

    Thursday, 29 March 2018

    ATEWA PENSION BACHAO MANCH : एक अप्रैल को काला दिवस मनाएगा अटेवा, शिक्षक निकालेंगे मशाल जुलूस,

    ATEWA PENSION BACHAO MANCH : एक अप्रैल को काला दिवस मनाएगा अटेवा, शिक्षक निकालेंगे मशाल जुलूस

    अटेवा पेंशन बचाओ मंच की बैठक बुधवार को जिलाध्यक्ष राजेश जायसवाल की अध्यक्षता में सदर बीआरसी के शिक्षक भवन में हुई। प्रांतीय पेतृत्व के आह्वान पर नई पेंशन लागू होने की तिथि 1 अप्रैल को काला दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया गया। इस दौरान शिक्षक मशाल जुलूस भी निकालेंगे। बैठक को संबोधित करते हुए अटेवा पेंशन बचाओ मंच के जिलाध्यक्ष राजेश जायसवाल ने कहा कि 1 अप्रैल 2005 से प्रदेश के सभी नौकरियों में पुरानी पेंशन व्यवस्था समाप्त कर नई पेंशन व्यवस्था लागू की गई है। जिसमें प्रदेश के 13 लाख शिक्षक व कर्मचारी अपने को ठगा महसूस कर रहे हैं। नई पेंशन के विरोध में सभी संगठनों से एक अप्रैल को मशाल जुलूस में प्रतिभाग करने की अपील की गई। जिलामंत्री टीपी सिंह ने सभी शिक्षक व कर्मचारियों से सरकार के तानाशाही रवैये के खिलाफ एकजुट होकर संघर्ष करने के लिए आह्वान किया। कहा कि पुरानी पेंशन बहाली के आंदोलन का हिस्सा बनने का समय आ गया है। ऐसे में सभी शिक्षक व कर्मचारी आंदोलन में बढ़ कर हिस्सा लें। उन्होंने बताया कि मशाल जुलूस सदर बीआरसी से सायं पांच बजे निकलेगी। सक्सेना चौराहे पर समाप्त होगी। इस दौरान पुरानी पेंशन बहाली के लिए प्रधानमंत्री को संबोधित ज्ञापन जिला प्रशासन को सौंपा जाएगा। बैठक का संचालन जिला संरक्षक महेन्द्र वर्मा ने किया। इस मौके पर जिला प्रवक्ता आदित्यनाथ शुक्ल, जिला मंत्री प्रेम किशन, गोपाल पटेल, प्रयागनाथ मिश्र, समर, मनोज कन्नौजिया, मुकेश, दिलीप विश्वकर्मा, प्रमोद पटेल, रूपक वर्मा, नंदकिशोर यादव, विश्व प्रताप सिंह, शक्तिशरण पाठक, नीलिमा सिंह, सुभाष यादव, अवधेश पटेल, राम सिंह, हिसामुद्दीन, देवेन्द्र पांडेय, वेदपति त्रिपाठी आदि पदाधिकारी मौजूद रहे।