प्राइमरी का मास्टर : अंग्रेजी माध्यम विद्यालय संचालन के लिए शिक्षकों ने दिए विकल्प,रिक्त सीटों को भरने के लिए कवायद शुरू,बीएसए ने बीएससी और बीकाम विषय के साथ बीटीसी करने वाले शिक्षकों की मांगी सूची : महराजगंज - primary ka master | basic shiksha news | updatemarts | uptet news | basic shiksha parishad
  • basic shiksha news updatemarts :

    Tuesday, 27 March 2018

    प्राइमरी का मास्टर : अंग्रेजी माध्यम विद्यालय संचालन के लिए शिक्षकों ने दिए विकल्प,रिक्त सीटों को भरने के लिए कवायद शुरू,बीएसए ने बीएससी और बीकाम विषय के साथ बीटीसी करने वाले शिक्षकों की मांगी सूची : महराजगंज

    प्राइमरी का मास्टर : अंग्रेजी माध्यम विद्यालय संचालन के लिए शिक्षकों ने दिए विकल्प,रिक्त सीटों को भरने के लिए कवायद शुरू,बीएसए ने बीएससी और बीकाम विषय के साथ बीटीसी करने वाले शिक्षकों की मांगी सूची : महराजगंज

    महराजगंज : नए शैक्षिक सत्र में जिले के 60 परिषदीय विद्यालयों में अंग्रेजी माध्यम से शिक्षा देने के लिए बेसिक शिक्षा विभाग द्वारा सोमवार को डायट पर शिक्षकों से विकल्प लिया गया। विकल्प लेने के लिए कुल 134 शिक्षको को बुलाया गया था जिसमें से 15 अनुपस्थित रहे। विभाग ने अंग्रेजी माध्यम से ग्रामीण क्षेत्र के बच्चों शिक्षा दिलाने के लिए 60 प्रधानाचार्य व 240 शिक्षक पदों पर आवेदन मांगा था, जिले भर से कुल 165 शिक्षकों ने आवेदन किया था। लिखित परीक्षा में कुल 134 शिक्षकों व साक्षात्कार में 126 शिक्षकों ने प्रतिभाग किया था। विभाग ने सोमवार को शिक्षकों को विकल्प भरने के लिए बुलाया था। पहले महिला शिक्षिकाओं से विकल्प लिया गया इसके बाद पुरुष शिक्षकों से। विकल्प भरे जाने के दौरान बीएसए जगदीश प्रसाद शुक्ल, डायट के प्रभारी प्राचार्य मसऊद अख्तर अंसारी, खंड शिक्षा अधिकारी नौतनवा संतोष शुक्ल, सदर राजेश कुमार व ब़ृजमनगंज तारकेश्वर पांडेय, वरिष्ठ सहायक संजय कुमार, कुलदीप चौधरी आदि मौजूद रहे।

     नए सत्र से संचालित होंगे विद्यालय, रिक्त सीटों पर होगी काउंसलिंग : बीएसए 
    जगदीश शुक्ल ने कहा कि नए सत्र से अंग्रेजी माध्यम के विद्यालयों को संचालित कराया जाएगा। इसके लिए सभी तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। रिक्त सीटों को भरने के लिए सभी बीआरसी से बीएससी व बीकाम विषय के साथ बीटीसी करने वाले शिक्षकों की सूची मांगी गई है। उन्हीं शिक्षकों से स्वेच्छा से विकल्प लिया जाएगा।