लखनऊ । बीएड-टीईटी पास अभ्यर्थियों का 12 दिनों से चल रहा धरना-प्रदर्शन सोमवार को तेज हो गया। लखनऊ के ईको गार्डन स्थित धरनास्थल पर प्रदेश के अलग-अलग जिलों से आए लगभग पांच हजार अभ्यर्थी इकट्ठा हुए। तेज धूप में करीब चार घंटे तक अभ्यर्थियों ने प्रदर्शन कर रोजगार देने की मांग उठाई।

2011 बैच के अभ्यर्थियों ने आरोप लगाया कि सात साल से उनके साथ अन्याय हो रहा है। सरकारें आ रहीं जा रहीं लेकिन उनकी समस्याओं का समाधान नहीं किया जा रहा है। प्रदर्शनकारियों ने कहा कि भाजपा ने रोजगार देने का वादा किया था लेकिन अब तक इसे पूरा नहीं किया गया।

प्रदर्शनकारियों ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने भी ये आदेश दे दिया है कि वर्ष 2017 के विज्ञापन को आगे बढ़ाया जाए, जिसका विज्ञापन शुल्क 300 करोड़ रुपये सरकारी कोष में जमा है। प्रदर्शनकारी मान बहादुर सिंह ने बताया कि बीते 11 मई को हमारे प्रतिनिधिमंडल ने सीएम योगी से मुलाकात की थी।

इस पर सीएम ने अपर मुख्य सचिव राज्यप्रताप सिंह को निर्देशित किया था कि जल्द ही बीएड-टीईटी धाकों की समस्या का समाधान किया जाए लेकिन अब तक इस संदर्भ में कोई कार्रवाई नहीं हुई। प्रदर्शनकारी पवन गुप्ता और सत्यम ने आरोप लगाया कि सीएम को अफसर अंधेरे में रख रहे हैं। अब हमारा आंदोलन तब तक जारी रहेगा जब तक अपर मुख्य सचिव हमारी मांगों के संदर्भ में शासनादेश जारी नहीं कर देते।

प्रदर्शन के दौरान एक अभ्यर्थी गेट के पिलर पर चढ़ गया, जिससे मौके पर अफरातफरी मच गई। काफी समझाने के बाद वह नीचे उतरा। अभ्यर्थियों ने कहा कि मांगों को लेकर हम कैंडल मार्च निकालेंगे।

 
Top