Mid Day Meal Accident : मिड डे मील में गिरी छिपकली,20 बच्चे बीमार : डीएम ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के खिलाफ दिए कार्रवाई के आदेश - primary ka master | basic shiksha news | updatemarts | uptet news | basic shiksha parishad
  • basic shiksha news updatemarts :

    Tuesday, 10 July 2018

    Mid Day Meal Accident : मिड डे मील में गिरी छिपकली,20 बच्चे बीमार : डीएम ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के खिलाफ दिए कार्रवाई के आदेश

    Mid Day Meal Accident : मिड डे मील में गिरी छिपकली,20 बच्चे बीमार : डीएम ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के खिलाफ दिए कार्रवाई के आदेश

    (औरैया) : विकास खंड क्षेत्र के गांव नगला पहाड़ी में प्राथमिक विद्यालय स्थित आंगनबाड़ी केंद्र पर दोपहर में बने मिडडे-मील खाने के बाद करीब 20 बच्चे बीमार हो गए। सूचना पर परिजनों व प्राथमिक विद्यालय में अफरातफरी मच गई। बच्चों को तुरंत सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया। जहां से सभी को सैफई रेफर कर दिया गया। थानाध्यक्ष ने बच्चों के नाम नोट किए। जिलाधिकारी के आदेश के बाद इस मामले की जांच शुरू कर दी गई। पुष्टाहार में बने दलिया का सैंपल लिया गया। इधर बीएसए व जिला कार्यक्रम अधिकारी बच्चों के हालचाल लेने सैफई पहुंचे। 1नगला पहाड़ी स्थित प्राथमिक विद्यालय स्थित आंगनबाड़ी केंद्र सोमवार को बच्चों के लिए मिडडे मील में नमकीन व मीठा दलिया बनाया गया। इसे नन्हें मुन्ने बच्चों को खाने क् लिए परोसा गया। तभी एक बच्चे की प्लेट में दलिया के संग मरी छिपकली निकली। छिपकली देख बच्चों ने चीख पुकार शुरू कर दी तो कार्यकर्ता ने छिपकली दलिया से निकाल कर चप्पल से जमीन पर रगड़ दी। बच्चों ने यह बात माता पिता को बताई। तब कुछ बच्चे दलिया खाने से बेहोश होने लगे। जिनको सीएचसी में भर्ती कराया गया। जहां से बच्चों की हालत बिगड़ने पर उन्हें सैफई रेफर कर दिया गया। बीमार बच्चों के परिजनों ने विद्यालय व आंगनबाड़ी स्टाफ पर लापरवाही का आरोप लगाया है। 1जिलाधिकारी श्रीकांत मिश्र के आदेश पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के खिलाफ कार्रवाई तय कर दी गई है। वहीं विद्यालय के बच्चों को आंगनबाड़ी का पुष्टाहार क्यों खिलाया गया इसकी भी जांच कराई जा रही है। पुष्टाहार में बने दलिया का भी सैंपल ले लिया गया है।1 जिला कार्यक्रम अधिकारी शरद अवस्थी ने बताया कि वह और बीएसए एसपी सिंह सैफई में ही है। सभी बच्चों की स्थिति ठीक है। एहतियातन उन्हें सैफई रेफर कर दिया गया था। बच्चों के डिस्चार्ज होने के बाद ही वह लोग सैफई से निकलेंगे।