आज का खास : पुरानी पेंशन बहाली महाहड़ताल पर महासंघ की ताकत,सरकार के आश्वासन पर चिंता और समाधान - primary ka master | basic shiksha news | updatemarts | uptet news | basic shiksha parishad up
  • primary ka master basic shiksha news :

    सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा 2019 आवेदन करें

    69000 सहायक अध्यापक भर्ती 2019 हेतु ऑनलाइन आवेदन करने हेतु क्लिक करें ।

    Wednesday, 24 October 2018

    आज का खास : पुरानी पेंशन बहाली महाहड़ताल पर महासंघ की ताकत,सरकार के आश्वासन पर चिंता और समाधान

    आज का खास : पुरानी पेंशन बहाली महाहड़ताल पर महासंघ की ताकत,सरकार के आश्वासन पर चिंता और समाधान



    महासंघ की ताकात से माननीय मुख्यमंत्री जी ने वार्ता के लिये बुलाया प्रतिनिधी मंडल।8 लोगो की कमेटी बनी है। जिस मे संघ के 2 लोग रहंगे

        सभी संघो के कार्मिकों का मनोबल उच्च स्थान पर है, सरकार से दो दो हाथ करने को तैयार हैं हम।

    चिंता नम्बर - 1
    कर्मियो की बड़ी चिंता ये है कि कमिटी कही 6 माह न ले और मुद्दा ठंडे बस्ते में चला जाए।

    चिंता नम्बर - 2
    जिन कर्मियो की सालो से nps नही कटी या कट रही इतने समय मे उनकी nps काटने न लग जाए

    चिंता नम्बर - 3
    शिक्षामित्रों की तरह अस्वाशन के रूप में लाठी न दे दे सरकार

    चिंता नम्बर - 4
    संघ को कमजोर न कर दे सरकार और लटकाए रखने के बाद बाद के धरने की धार मंद करने के सभी विकल्प
    तलाश ले सरकार ।

    Example - ATEWA के पहले धरने में हजारो लोग से सरकार ने झूठ का आश्वासन दिया । जब मांग नही मानी तो ATEWA ने दोबारा धरना दिया और सरकार ने लाठी चार्ज करवा दिया। अतः अब कोई और रामाशीष न पैदा कर दे अगले धरने तक ।

    क्या हो सकता है समाधान ?

    1 सरकार द्वारा नामित कमिटी मे 2 लोग अपने भी हैं।वो हफ्ता या 10 दिन मे आवश्यक निर्णय ले।

    2 पुरानी पेंशन हेतु बहुत बड़ा कार्य या ड्राफ्ट नही लागू होना है।सिर्फ माननीय मुख्यमंत्री जी एक बिल निकालकर 2005 के बाद के वंचितों को पेंशन ततकाल माह से सुरु कर सकते हैं।

    3 इतने संघो का इतना वड़ा विश्वास और विश्वास की बयार की सूनामी से सरकार हिल चुकी है।

    सही मौका है, कर्मियो का भरोसा है तो आचार सहिंता से पहले हफ्ता 10 दिन मे ततकाल ही निर्णय के लिये बाध्यता करें अथवा पुनः महा बंद दीवाली के बाद शुरू करें।

    4 शेष संघो से समर्थन प्राप्त कर महा गठबंधन को और मजबूत किया जाए तब तक ।