Income tax Help अपना आयकर कैलकुलेट करें ( calculate your income tax) - Primary Ka Master || UPTET, Basic Shiksha News, TET, UPTET News
  • primary ka master

    LATEST PRIMARY KA MASTER - BASIC SHIKSHA NEWS TODAY


    Monday, 7 January 2019

    Income tax Help अपना आयकर कैलकुलेट करें ( calculate your income tax)

    Income tax Help अपना आयकर कैलकुलेट करें ( calculate your income tax)



    अपने टैक्स के बोझ को कम करने के लिए आप टैक्स छूट का भी लाभ ले सकते हैं। सरकार सेक्शन 80C के तहत कुछ खास तरह के निवेश (investments) पर टैक्स छूट देती है। इस छूट के तहत आप जितना पैसा निवेश करते हैं उतना है। *टैक्सेबल इनकम से घटाकर टैक्स देनदारी* की गणना की जाती है। अभी आप अधिकतम 1.5 लाख के निवेश पर टैक्स छूट पा सकते हैं। किन-किन निवेश पर ये टैक्स छूट मिलती है इसकी लिस्ट में हम नीचे दे रहे हैं।

    The government gives the benefit of tax deduction on certain investments under section 80C. The limitof this deduction is 1.5 lac.

    ● कर्मचारी भविष्य निधि (ईपीएफ) और स्वैच्छिक भविष्य निधि (वीपीएफ) -
    Employees’ Provident Fund (PF) & Voluntary Provident Fund (VPF)
    लोक भविष्य निधि (पीपीएफ) योजना
    Public Provident Fund (PPF)
    जीवन बीमा
    Life Insurance Tax Benefit
    होम लोन की किस्तों में मूल धन वाला हिस्सा
    Home Loan Principal Repayment
    सुकन्या समृद्धि योजना खाता
    Sukanya Samriddhi Account Scheme
    राष्ट्रीय बचत प्रमाण
    National Savings Certificate (NSC)
    नेशनल पेंशन सिस्टम
    Contributions to National Pension System (NPS)
    वरिष्ठ नागरिक बचत योजना
    Senior Citizen Savings Scheme 2004 (SCSS)
    पांच साल वाली टैक्स सेविंग एफडी
    Five-year Bank Fixed Deposits (FDs)
    पांच वर्षीय पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट (टीडी)
    Five-year Post Office Time Deposit (POTD) Scheme
    यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान (यूलिप)
    Unit-linked Insurance Plan (Ulip)
    बच्चों की पढ़ाई की फीस (सिर्फ टयूशन फीस वाला हिस्सा)
    Payment of Tuition Fees
    इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम्स (ईएलएसएस)
    Equity Linked Savings Scheme (ELSS)

    ● नौकरीपेशा लोगों को 40,000 का स्टैंडर्ड डिडक्शन
    Standard Deduction of 40,000 For Salaried
    ● 1.5 लाख तक निवेश पर टैक्स छूट
    Tax Deduction on Investment Up to 1.5 Lac
    ●  टैक्स के साथ 4 फीसदी एजुकेशन एंड हेल्थ सेस
    4% Education And Health Cess for All
    ● इनकम टैक्स एक्ट के Section 80CCD (1) के तहत आप अपनी सेलरी (Basic+DA) का 10 प्रतिशत तक एनपीएस (National Pension System) में योगदान कर सकते हैं। इस पर आपको टैक्स छूट भी मिलती है। बशर्ते कि यह सेक्शन 80C अैर 80 CCE के तहत टैक्स छूट के लिए मान्य 1.5 लाख रुपए की सीमा के अंतर्गत ही हो। इसके अतिरिक्त भी 50, 000 रुपए तक के NPS योगदान पर सेक्शन 80CCD (1B) के तहत टैक्स कटौती का दावा कर सकते हैं। उल्लेखनीय है कि स्व-रोजगार प्राप्त व्यक्ति भी धारा 80CCD(1) के तहत अपनी कुल income के 20 फीसदी तक का योगदान NPS में कर सकता है। पिछले वित्त वर्ष (2017-18) तक यह 10 प्रतिशत तक ही सीमित थी।
    : अगर आप नौकरीशुदा (Salaried employee) हैं आपकी आमदनी टैक्स भरने लायक है, तो आपको *40 हजार रुपए के Standard Deduction* की सुविधा भी मिलेगी। यह व्यवस्था इसी वित्त वर्ष (2018-19) में  सरकार ने शुरू की है। और यह सुविधा Salary पाने वाले हर श्रेणी के कर्मचारियों के लिए है।

    Standard Deduction  के तहत आपकी सालाना Income में से पहले 40 हजार रुपए बाहर कर दिए जाएंगे, बकाया आमदनी पर ही टैक्स (TDS) की गणना होगी। ध्यान दें इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करते समय आप अपनी टैक्स देनदारी तय करने में Standard Deduction को शामिल करना न भूले।

    वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान कमाई पर टैक्स के साथ आपको 4 फीसदी Education And Health Cess भी देना पडेगा। पिछले वर्ष (2017-18) तक यह 3 फीसदी ही लगता था ।

    Education Cess के नाम से। इस वर्ष इसे 1 % बढ़ाकर 4 फीसदी कर दिया गया है और नाम भी एजुकेशन सेस से बदलकर Education and Health Cess  कर दिया गया है। Cess एक उपकर होता है जो आपकी टेक्स देनदारी के ऊपर लगता है।
    बचत खाते के 10,000 ब्याज पर छूट, बुजुर्गो के लिए 50,000 तक
    No Tax on interest up to 10,000, for Senior Citizen 50000

    ● बैंक या पोस्ट ऑफिस में Saving Account -  में जमा रकम के सालाना 10 हजार रुपए तक ब्याज पर कोई टैक्स नहीं लगता (Section 80TTA के तहत)। 10 हजार से अधिक जो ब्याज मिलेगा, उस अतिरिक्त ब्याज को आपकी टैक्स योग्य Income में जोड़ा जाएगा।

    इस पर Tax Slab के हिसाब से टैक्स भी चुकाना पड़ेगा। लेकिन बुजुर्गों के लिए इस मद में टैक्स छूट बढ़ा दी गई है। वर्ष 2018-19 के दौरान बुजुर्गों को Saving Account पर मिली 50 हजार रुपए तक की ब्याज पर कोई Tax नहीं देना हो

    ● जीवन बीमा प्रीमियम (Health Insurance Policy) - के लिए आप जो Premium प्रीमियम चुकाते हैं, उस पर Section 80D के तहत टैक्स छूट मिलती है। आप खुद के लिए, या अपने पति/पत्नी या बच्चे के लिए,  सालाना 25 हजार रुपए तक के Premium पर यह टैक्स छूट प्राप्त कर सकते हैं।

    इसके अलावा अपने माता-पिता के लिए भी अलग से 25 हजार रुपए तक के Health Insurance Premium पर टैक्स छूट प्राप्त कर सकते हैं। अगर आप या आपके जीवनसाथी की उम्र 60 से ज्यादा है तो 50 हजार तक के हेल्थे इंश्योरेंस पर छूट मिलेगी।

    इसी तरह अगर माता-पिता 60 साल से ज्यादा के हैं तो उनके लिए अलग से 50 हजार रुपए तक की छूट मिलेगी। इस तरह आप हेल्थ इंश्योरेंस बीमा पर अधिकतम एक लाख रुपए तक छूट पा सकते हैं। ध्यान दें,  यह सुविधा आपको Section 80C के तहत मिली टैक्स छूट के अतिरिक्त है।

    ● होम लोन पर ब्याज के भुगतान - (interest payment) के लिए 2 लाख रुपये (सेक्शन 24 के तहत)
    होम लोन पर मूल के भुगतान (principal repayment) के लिए 1.5 लाख रुपये (सेक्शन 80C के तहत
    ● बुजुर्गों की गंभीर बीमारियों के इलाज पर 1 लाख तक टैक्स फ्री

    बुजुर्ग नागरिकों (Senior Citizens) को कुछ विशेष गंभीर बीमारियों (कैंसर, एड्स, थैलीसिमिय, हैमोफिलिया वगैरह) के इलाज में 1 लाख रुपए तक के खर्च पर टैक्स छूट दी गई है।

    अभी तक इस श्रेणी में टैक्स छूट की सीमा Senior Citizen (60 से 80 वर्ष) के लिए 60 हजार रुपए थी। Super Senior Citizen (80 वर्ष से ऊपर) के लिए यह छूट 80 हजार रुपए तक थी। अब दोनों श्रेणियों के बुजुर्गों के लिए इस मद पर 1 लाख रुपए तक के खर्च  पर टैक्स छूट दी जाएगी।

    ● हाऊस रेंट अलॉउंस मिलने की दशा में- यदि व्यक्तिगत करदाता सेलेरिड है एवं उसे हाऊस रेंट अलॉउंस प्राप्त होता है तो आयकर अधिनियम की धारा 10(13ए) के तहत निम्न में से जो भी कम हो, छूट प्राप्त की जा सकती है-

    ● नियोक्ता से प्राप्त हाऊस रेंट अलॉउंस ।
    ● अदा किए गए किराए में से सेलेरी (बेसिक+डीए) का 10 प्रतिशत घटाने पर प्राप्त राशि।
    ● बेसिक सेलेरी का 50 प्रतिशत (मेट्रो सिटी में रहने की दशा में) या बेसिक सेलेरी का 40 प्रतिशत (नॉन मेट्रो सिटी में रहने की दशा में)।

    PRIMARY KA MANSTER WEELKY TOP NEWS

    PRIMARY KA MASTER MONTHLY TOP NEWS

    PRIMARY KA MASTER TOP NEWS