CRPF काफिले पर हुआ बड़ा आतंकी हमला,44 जवान शहीद कई घायल,आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली हमले की जिम्मेदारी - Primary Ka Master || UPTET, Basic Shiksha News, TET, UPTET News
  • primary ka master

    PRIMARY KA MASTER- UPTET, BASIC SHIKSHA NEWS, UPTET NEWS LATEST NEWS


    Thursday, 14 February 2019

    CRPF काफिले पर हुआ बड़ा आतंकी हमला,44 जवान शहीद कई घायल,आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली हमले की जिम्मेदारी

    CRPF काफिले पर हुआ बड़ा आतंकी हमला,44 जवान शहीद कई घायल,आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली हमले की जिम्मेदारी

    [जम्मू से श्रीनगर जाने के लिए लगभग दर्जनो भर सीआरपीएफ की गाड़ियों में बैठकर निकले थे 2500 जवान]
    [आतंकियो ने आईडी लगाकर पुलवामा जिले के गोरीपोरा में जवानों से भरे वाहनों को उड़ाया]




    (सेना ने घायलों को इलाज़ हेतु भेजा और पूरे इलाके को घेर शुरू कर दिए हैं आतंकवादियों के खिलाफ ऑपरेशन)
    {इस कायराना हमले से देशवासियों की हम आँखों मे देखा जा रहा आक्रोश}
    पुलवामा में शहीद हुए 44 जवानों की सूची

    जम्मू-कश्मीर में बड़ा आतंकी हमला हुआ है।जिसमें अब तक 44 जवान शहीद हो चुके है और गंभीर रूप से घायल जवानों की तादात ज्यादा होने से सम्भवतः शहीदों की सँख्या में इज़ाफ़ा हो सकता है। यह हमला पुलवामा में अवंतीपोरा के गोरीपोरा मे हुआ है। हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार हमले में 44 सीआरपीएफ जवान शहीद हो गए जबकि सैकड़ो से अधिक जवान घायल हो गए है।

    बता दें कि आतंकियों ने यह हमला आईईडी से किया है। वहीं घटना के बाद घायलो को अस्पताल मे भर्ती करवाया गया है। साथ ही सेना ने आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन शुरू कर दिया है।

    बताया जा रहा है कि सीआरपीएफ के इस काफीले में करीब दर्जनभर गाड़ियों में 2500 से अधिक जवान सवार थे। जहां आतंकियों ने CRPF की दो गाडियों का निशाना बनाया है।
    मामले को लेकर CRPF महानिदेशक RR भटनागर ने कहा कि काफिला जम्मू से श्रीनगर जा रहा था। जिसमें करीब ढाई हजार जवान थे। वहीं डीजीपी दिलबाग सिंह के अनुसार 12 जवानों के शहीद होने की खबर है।

    जबकि बताया जा रहा है कि अब तक 44 जवान सहीद हो चुके है और  शहीद जवानों की संख्या बढ़ सकती है।
    इस कायराना हमले से पूरे देश मे शहीदों के लिए आँखे नम हुई जा रही है तो वही पाकिस्तान व उसके द्वारा पोषित आतंकी गुटों के प्रति लोगो मे आक्रोश फैल रहा है।

    देशवासियों को मोदी सरकार के अगले कठोर कदम की प्रतीक्षा है।अब बहोत हो गया भारत को पाकिस्तान पर हमला कर देना चाहिए।इस साढ़े चार साल में पाकिस्तान 17 बार हमला कर चुका है।बॉडर पर अये दिन रोज जवान शहीद हो रहे हैं। कड़ा जबाब नहीं दिया गया तो कायरों की श्रेणी यह देश अवश्य गिना जाएगा।

    1.जयमाल सिंह- 76 बटालियन
    2. नसीर अहमद- 76 बटालियन
    3. सुखविंदर सिंह- 76 बटालियन
    4. रोहिताश लांबा- 76 बटालियन
    5. तिकल राज- 76 बटालियन
    6. भागीरथ सिंह- 45 बटालियन
    7. बीरेंद्र सिंह- 45 बटालियन
    8. अवधेष कुमार यादव- 45 बटालियन
    9. नितिन सिंह राठौर- 3 बटालियन
    10. रतन कुमार ठाकुर- 45 बटालियन
    11. सुरेंद्र यादव- 45 बटालियन
    12. संजय कुमार सिंह- 176 बटालियन
    13. रामवकील- 176 बटालियन
    14. धरमचंद्रा- 176 बटालियन
    15. बेलकर ठाका- 176 बटालियन
    16. श्याम बाबू- 115 बटालियन
    17. अजीत कुमार आजाद- 115 बटालियन
    18. प्रदीप सिंह- 115 बटालियन
    19. संजय राजपूत- 115 बटालियन
    20. कौशल कुमार रावत- 115 बटालियन
    21. जीत राम- 92 बटालियन
    22. अमित कुमार- 92 बटालियन
    23. विजय कुमार मौर्या- 92 बटालियन
    24. कुलविंदर सिंह- 92 बटालियन
    25. विजय सोरंग- 82 बटालियन
    26. वसंत कुमार वीवी- 82 बटालियन
    27. गुरु एच- 82 बटालियन
    28. सुभम अनिरंग जी- 82 बटालियन
    29. अमर कुमार- 75 बटालियन
    30. अजय कुमार- 75 बटालियन
    31. मनिंदर सिंह- 75 बटालियन
    32. रमेश यादव- 61 बटालियन
    33. परशाना कुमार साहू- 61 बटालियन
    34. हेम राज मीना- 61 बटालियन
    35. बबला शंत्रा- 35 बटालियन
    36. अश्वनी कुमार कोची- 35 बटालियन
    37. प्रदीप कुमार- 21 बटालियन
    38. सुधीर कुमार बंशल- 21 बटालियन
    39. रविंदर सिंह- 98 बटालियन
    40. एम बाशुमातारे- 98 बटालियन
    41. महेश कुमार- 118 बटालियन
    42. एलएल गुलजार- 118 बटालियन

    आज पाकिस्तान स्थित और उनके द्वारा संरक्षित आतंकवादी संगठन जैश-ए -मोहम्मद ने कश्मीर में एक हृदय विदारक आतंकवादी हमला किया ।

     जिसमें सीआरपीएफ के 42 जवान शहीद हुए हैं । इस आतंकी हमले का समुचित जवाब देने के लिए हम सब भारतवासी एकजुट हैं । 

    देश के जिम्मेदारों से अपील है कि URI सर्जिकल स्ट्राइक के नशे से बाहर निकलें । निंदा का राग अलापना बन्द करें। मामले में कठोर कदम उठाएं। 

    भारत देश की रक्षा में शहीद हुए जवानों को अश्रुपूर्ण भावभीनी श्रद्धांजली

    साथ ही उन आतंकवाद वादियों व उनको संरक्षण देने वालों की कड़ी निंदा, निंदा , निंदा और कड़ी भर्त्सना ।
    *"सम्भल जाओ ऐ गद्दारों मेरा देश बहुत गुस्से में है !"*