नीति आयोग से संबंधित महत्वपूर्ण परीक्षापयोगी प्रश्नोत्तरी (NITI Aayog Important Question-Answer ) - प्राइमरी का मास्टर - UPTET | Primary Ka Master | Basic Shiksha News | Shiksha Mitra News
  • primary ka master

    LATEST PRIMARY KA MASTER - BASIC SHIKSHA NEWS TODAY


    Sunday, 10 February 2019

    नीति आयोग से संबंधित महत्वपूर्ण परीक्षापयोगी प्रश्नोत्तरी (NITI Aayog Important Question-Answer )

    नीति आयोग से संबंधित महत्वपूर्ण परीक्षापयोगी प्रश्नोत्तरी (NITI ayog Important Question-Answer )


    दोस्तों आज हम NITI Aayog Important Question-Answer आप से साझा करने जा रहे हैं. जोकि नीति आयोग से संबंधित महत्वपूर्ण परीक्षापयोगी तथ्यों पर आधारित है. इसलिए मित्रों आप सभी से मेरा निवेदन है कि इसे अच्छे से पढें और याद कर लें. आप सभी पाठकों को आने वाले Exams के लिये बहुत ढेरों शुभकामनाऐं.


    niti ayog Important Question-Answer:


    भारत सरकार द्वारा नीति आयोग 1 जनवरी, 2015 को गठित की गई एक नई संस्था है जिसे सरकार ने योजना आयोग के स्‍थान पर बनाया है। 


    इस नई संस्‍था को लाने की घोषणा प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने 15 अगस्‍त, 2014 को लाल किले से अपने संबोधन के दौरान की थी। 


    नीति आयोग भारत की एक गैर संवैधानिक निकाय है। 


    नीति आयोग का पूर्ण रूप से ‘राष्‍ट्रीय भारत परिवर्तन संस्‍थान’ (NITI – National Institution for Transforming India) है। 



    नीति आयोग का मुख्‍यालय दिल्‍ली में है, जिसे भारत सरकार ने थिंक टैंक नाम दिया है. विचारक समूह या थिंक टैंक उस संस्था को कहते हैं जो सामाजिक नीति, राजनैतिक रणनीति, अर्थनीति, सैन्य नीति, प्रौद्योगिकी और संस्कृति जैसे विषयों पर गम्भीर व्यावहारिक चिन्तन करतीं हैं। इन्हें अनुसंधान संस्थान या नीति संस्थान भी कहते हैं। 


    नीति आयोग कोई भी वित्‍तीय आवंटन नहीं करता है। जैसे योजना आयोग करती थी. 


    नीति आयोग का प्राथमिक कार्य सरकार को सामाजिक एवं आर्थिक मुद्दों पर राय देना है. ताकि सरकार ऐसी योजना का निर्माण करे जोकि जनता के लिए हितकारी हो। 


    नीति आयोग के उद्देश्‍य 13 सूत्री हैं। 


    नीति आयोग के गठन में अध्‍यक्ष, उपाध्‍यक्ष, सीईओ (CEO), पूर्णकालिक सदस्‍य (Full Time Member), पदेन सदस्‍य (Ex-Officio Members), शासी परिषद् तथा विशेष आमंत्रित सदस्‍य शामिल है। 


    नीति आयोग का अध्‍यक्ष प्रधानमंत्री को नियुक्त किया है। 


    नीति आयोग के प्रथम अध्‍यक्ष श्री नरेन्‍द्र मोदी हैं। 


    नीति आयोग के उपाध्‍यक्ष की नियुक्ति प्रधानमंत्री द्वारा की जाती है। 


    नीति आयोग के उपाध्‍यक्ष को सरकार में कैबिनेट मंत्री का दर्जा प्राप्‍त होता है। 


    नीति आयोग के सीईओ भारत सरकार के सचिव स्‍तर के अधिकारी होता है, जिसकी नियुक्‍त निश्चित कार्यकाल के लिए प्रधानमंत्री द्वारा की जाती है. 


    नीति आयोग संस्था के प्रथम उपाध्‍यक्ष अरविन्‍द्र पनगडि़या थे. 


    नीति आयोग संस्था के प्रथम सीईओ(CEO) सिन्‍धुश्री खुल्‍लर थे. 


    नीति आयोग में पूर्णकालिक सदस्‍यों की संख्‍या कुल 5 होती है, इन सदस्यों को राज्‍य मंत्री के समान दर्जा प्राप्‍त होता है. 


    नीति आयोग में पदेन सदस्‍य की अधिकतम संख्‍या चार होती है, जोकि भारत के पीएम द्वारा नामित किए जाते है. 


    नीति आयोग में शासी परिषद् (Governing Council) में भारत के सभी मुख्‍यमंत्री और केन्‍द्र शासित प्रदेशों के राज्‍यपाल / प्रशासक शामिल होते हैं। 


    नीति आयोग में विशेष आमंत्रित सदस्‍य में विभिन्‍न क्षेत्रों के विशेषज्ञ शामिल होते हैं जिन्‍हें प्रधानमंत्री द्वारा नामित करते हैं. 


    नीति आयोग के क्रियान्‍वयन की जिम्मेदारी केन्‍द्र और राज्‍य सरकार की होती है। 


    नीति आयोग की योजनाओं को अंतिम स्‍वीकृति राष्‍ट्रीय विकास परिषद् (NDC) द्वारा दी जाती है. 


    नीति आयोग के वर्तमान अध्यक्ष पीएम नरेंद्र मोदी हैं. 


    नीति आयोग के वर्तमान उपाध्यक्ष डाँ राजीव कुमार हैं. 


    नीति आयोग के वर्तमान CEO श्री अभिताभ कांत है. 


    नीति आयोग के वर्तमान पूर्ण्कालिक सदस्य – रमेंश चंद , बी के सारस्वत , विवेक देवराय , डाँ वी के पाल है.


    PRIMARY KA MANSTER WEELKY TOP NEWS

    PRIMARY KA MASTER MONTHLY TOP NEWS

    PRIMARY KA MASTER TOP NEWS

    PRIMARY KA MASTER NOTICE

    नोट:-इस वेबसाइट / ब्लॉग की सभी खबरें google search व social media से लीं गयीं हैं । हम पाठकों तक सटीक व विश्वसनीय सूचना/आदेश पहुँचाने की पूरी कोशिश करते हैं । पाठकों से विनम्रतापूर्वक अनुरोध है कि किसी भी ख़बर/आदेश का प्रयोग करने से पहले स्वयं उसकी वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें । इसमें वेबसाइट पब्लिशर की कोई जिम्मेदारी नहीं है । पाठक ख़बरों/आदेशों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा ।