यूपी बोर्ड की सभी किताबें बाजार में उपलब्ध, बोर्ड ने में सभी प्रकाशकों की पूछी स्टाक की स्थिति - primary ka master | basic shiksha news | updatemarts | uptet news | basic shiksha parishad
  • basic shiksha news updatemarts :

    Wednesday, 27 March 2019

    यूपी बोर्ड की सभी किताबें बाजार में उपलब्ध, बोर्ड ने में सभी प्रकाशकों की पूछी स्टाक की स्थिति

    यूपी बोर्ड की सभी किताबें बाजार में उपलब्ध, बोर्ड ने में सभी प्रकाशकों की पूछी स्टाक की स्थिति



     प्रयागराज : माध्यमिक शिक्षा परिषद यानी यूपी बोर्ड नए शैक्षिक सत्र के शुभारंभ पर भी गंभीर हो गया है। छात्र-छात्रओं को किताबें मुहैया कराने का जिम्मा बोर्ड प्रशासन का है, इसी को ध्यान में रखकर बाजार में पर्याप्त किताबें उपलब्ध कराने का दावा किया गया है। साथ ही प्रकाशकों से स्टॉक की स्थिति भी पूछी गई है और उन्हें निर्देश दिया गया है कि किसी दशा में किताबें कम न पड़ें और अभिभावकों से मूल्य भी अधिक न लिया जाए।
    यूपी बोर्ड ने पिछले वर्ष ही पाठ्यक्रम में बड़ा बदलाव किया था उसी समय किताबें उपलब्ध कराने के लिए ठेका प्रकाशकों को दिया गया। तय प्रकाशकों को दो वर्ष तक लगातार किताबें मुहैया करानी है। इस वर्ष भी छह विषयों की किताबों का नया टेंडर किया गया, ताकि कक्षा नौ व ग्यारह में पढ़ाई पूरी चुके छात्र-छात्रओं को दसवीं व बारहवीं में परेशानी न हो। यह टेंडर बोर्ड ने जनवरी माह में ही दे दिया है। बोर्ड की ओर से कहा गया है कि सभी विषयों की किताबें बाजार में उपलब्ध करा दी गई हैं। साथ ही सभी प्रकाशकों से पूछा गया है कि स्टॉक की स्थिति क्या है, निर्देश है कि इसमें किसी तरह की ढिलाई न की जाए और न ही किताबों को तय दर से अधिक में बेचा जाए। ऐसा होने पर सख्त कार्रवाई होगी। बोर्ड सचिव नीना श्रीवास्तव का कहना है कि वे और बोर्ड के अन्य अफसर इसकी निगरानी कर रहे हैं। सत्र शुरू होने में अब कोई बाधा नहीं है। जल्द ही सभी जिला विद्यालय निरीक्षकों को भी इस संबंध में निर्देश भेजे जाएंगे, ताकि छात्र व अभिभावकों को परेशान न होना पड़े। ज्ञात हो कि पिछले वर्ष भी बोर्ड ने सत्र शुरू होने से एक सप्ताह पहले ही किताबें बाजार में उपलब्ध करवा दी थीं और जहां से भी शिकायतें हुई, उन पर प्रभावी कार्रवाई की गई।

    जांस, प्रयागराज : यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की कॉपियों का मूल्यांकन जिले के सात केंद्रों पर मंगलवार को पूरा हो गया। अंतिम दिन एकमात्र क्रास्थवेट गल्र्स इंटर कॉलेज में हाईस्कूल की शेष बची 15907 कॉपियां जांची गई। इसके साथ कुल 1389852 कॉपियों के मूल्यांकन का काम 17 दिन में समाप्त हो गया।
    जिले में कॉपियों का मूल्यांकन दो दिन की देरी से 10 मार्च को शुरू हुआ। यूपी बोर्ड से इंटरमीडिएट की 204137 कॉपी राजकीय इंटर कॉलेज को, 159968 कॉपी डॉ. केएन काटजू इंटर कॉलेज को तथा 174000 कॉपी केपी इंटर कॉलेज को आवंटित की गई थी। इसी तरह हाईस्कूल की 231513 कॉपियां राजकीय बालिका इंटर कॉलेज को, 325476 कॉपियां भारत स्काउट एंड गाइड इंटर कॉलेज को, 144904 कॉपियां अग्रसेन इंटर कॉलेज को तथा 149854 कॉपियां क्रास्थवेट गल्र्स इंटर कॉलेज को आवंटित की गई थीं। क्रास्थवेट को छोड़कर अन्य केंद्रों पर मूल्यांकन का काम सोमवार को ही पूरा हो गया था। डीआइओएस आरएन विश्वकर्मा के मुताबिक जिले के सभी केंद्रों पर 26 मार्च तक कॉपियों के मूल्यांकन का लक्ष्य निर्धारित किया गया था।