primary ka master,basic shiksha parishad शिक्षकों और शिक्षणोत्तर कर्मचारियों को रिटायरमेंट के दिन ही पूरा भुगतान - Primary Ka Master || UPTET, Basic Shiksha News, TET, UPTET News
  • primary ka master

    PRIMARY KA MASTER- UPTET, BASIC SHIKSHA NEWS, UPTET NEWS LATEST NEWS


    Sunday, 24 March 2019

    primary ka master,basic shiksha parishad शिक्षकों और शिक्षणोत्तर कर्मचारियों को रिटायरमेंट के दिन ही पूरा भुगतान

    primary ka master,basic shiksha parishad शिक्षकों और शिक्षणोत्तर कर्मचारियों को रिटायरमेंट के दिन ही पूरा भुगतान

    माध्यमिक शिक्षा परिषद के विद्यालयों में शिक्षकों और शिक्षणोत्तर कर्मचारियों को सेवानिवृत्ति के दिन ही जीपीएफ समेत अन्य देयों का भुगतान किया जाएगा। पेंशन बुक भी उन्हें उसी दिन सौंप दी जाएगी। इसके लिए तैयारी पूरी कर ली गई है। 31 मार्च को प्रयागराज समेत मंडल के चारों जिलों में सेवानिवृत्त होने वाले 171 शिक्षकों एवं शिक्षणोत्तर कर्मचारियों को जीपीएफ समेत पेंशन बुक उपलब्ध कराई जाएगी।

    ज्यादातर सरकारी विभागों में कर्मचारियों को सेवानिवृत्त के दिन समस्त देयों का भुगतान नहीं हो पाता है। अफसर से लेकर कर्मचारी संगठन तक सेवानिवृत्त होने वाले कर्मचारी के लिए विदाई समारोह भी करते हैं, जिसमें उन्हें उपहार देकर सम्मानित किया जाता है। किंतु, इसके बाद जीपीएफ, पेंशन के लिए उसे अपने ही विभाग के चक्कर लगाने पड़ते हैं। स्थिति यह होती है जिन अफसरों और कर्मचारी संगठनों ने सेवानिवृत्त होने पर विदाई समारोह आयोजित किया, बाद में वे भी उनकी मदद के लिए आगे नहीं आते।

    शिक्षा विभाग में भी आमतौर पर यही स्थिति है। ऐसे में इस बार शिक्षा विभाग ने नया करने की योजना बनाई है। 31 मार्च को प्रयागराज के विभिन्न विद्यालयों में 98 शिक्षक एवं शिक्षणोत्तर कर्मचारी समेत प्रतापगढ़ में 35, फतेहपुर में 25 एवं कौशाम्बी में 13 शिक्षक एवं शिक्षणोत्तर कर्मचारी सेवानिवृत्त हो रहे हैं। उप निदेशक माध्यमिक कार्यालय ने इन जिलों के डीआइओएस को पत्र लिखकर सेवानिवृत्त होने वाले शिक्षकों का विवरण मांगा। प्रतापगढ़, फतेहपुर और कौशाम्बी से विवरण पहुंच भी गया लेकिन प्रयागराज के डीआइएएस प्रथम कार्यालय से 12 एवं डीआइओएस द्वितीय कार्यालय से 11 शिक्षकों एवं शिक्षणोत्तर कर्मचारियों का ब्योरा अब तक उप निदेशक कार्यालय नहीं पहुंचा है। हालांकि अगले दो-तीन दिन में ब्योरा उप निदेशक कार्यालय में पहुंचने की उम्मीद जताई जा रही है।