1150 पदों की भर्ती परीक्षा रुकने से 10 हजार अभ्यर्थी असमंजस में, असिस्टेंट प्रोफेसर का मामला - प्राइमरी का मास्टर - UPTET | Primary Ka Master | Basic Shiksha News | Shiksha Mitra News
  • primary ka master

    UPTET | PRIMARY KA MASTER | BASIC SHIKSHA NEWS | SHIKSHA MITRA


    Monday, 15 April 2019

    1150 पदों की भर्ती परीक्षा रुकने से 10 हजार अभ्यर्थी असमंजस में, असिस्टेंट प्रोफेसर का मामला

    1150 पदों की भर्ती परीक्षा रुकने से 10 हजार अभ्यर्थी असमंजस में, असिस्टेंट प्रोफेसर का मामला

    अशासकीय महाविद्यालयों में विज्ञापन संख्या 47 के तहत असिस्टेंट प्रोफेसर के 1150 पदों की भर्ती उप्र उच्चतर शिक्षा सेवा चयन आयोग (यूपीएचईएससी) पूरी नहीं करवा पा रहा है। इस भर्ती को रफ्तार ढाई साल बाद भी नहीं मिल सकी है। यूपीएचईएससी के सामने सबसे बड़ी चुनौती 12 जनवरी को हुई तीसरे चरण की लिखित परीक्षा पर आए संकट को खत्म करने की है। इस परीक्षा में प्रदेश भर के 17196 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया था लेकिन, परीक्षा में 9989 अभ्यर्थी ही शामिल हुए थे। छह विषयों के लिए तीसरे चरण में हुई परीक्षा का प्रश्नपत्र आउट होने के गंभीर आरोप लगने पर न्यायिक जांच शुरू करा दी गई थी। अप्रैल माह आधा बीतने के बाद भी न्यायिक जांच रिपोर्ट पर पर्दा पड़ा है। जबकि इससे प्रदेश के 9989 अभ्यर्थियों का भविष्य सीधे जुड़ा है क्योंकि न्यायिक जांच समिति को जो साक्ष्य दिए जा चुके हैं, उनके आधार पर परीक्षा पर खतरा मंडरा रहा है। जबकि यूपीएचईएससी से इस बारे में कोई स्पष्ट जवाब भी नहीं मिल रहा है। अभ्यर्थियों की तकलीफ यह है कि आवेदन ढाई साल पहले किया गया था और भर्ती की तस्वीर अब भी धुंधली ही है। परीक्षा संस्था उन्हें लगातार टरका रही है। चुनाव आचार संहिता लागू होने के चलते विरोध प्रदर्शन से भी परहेज है। ऐसे में अभ्यर्थी यूपीएचईएससी के अधिकारियों से सीधी बात का ही एकमात्र रास्ता तलाश रहे हैं।

    PRIMARY KA MANSTER WEELKY TOP NEWS

    PRIMARY KA MASTER MONTHLY TOP NEWS

    PRIMARY KA MASTER TOP NEWS

    PRIMARY KA MASTER NOTICE

    नोट:-इस वेबसाइट / ब्लॉग की सभी खबरें google search व social media से लीं गयीं हैं । हम पाठकों तक सटीक व विश्वसनीय सूचना/आदेश पहुँचाने की पूरी कोशिश करते हैं । पाठकों से विनम्रतापूर्वक अनुरोध है कि किसी भी ख़बर/आदेश का प्रयोग करने से पहले स्वयं उसकी वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें । इसमें वेबसाइट पब्लिशर की कोई जिम्मेदारी नहीं है । पाठक ख़बरों/आदेशों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा ।