बीएड डिग्री धारकों ने गुरुजी बनने के लिए 7 साल तक लड़ी कानूनी लड़ाई, हाई कोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक लड़ी लंबी लड़ाई - PRIMARY KA MASTER | UPTET | UPSC | UPPSC | BASIC SHIKSHA NEWS | UPTET NEWS | SHIKSHA MITRA NEWS
  • primary ka master

    primary ka master - education and uptet breaking news


    Tuesday, 2 April 2019

    बीएड डिग्री धारकों ने गुरुजी बनने के लिए 7 साल तक लड़ी कानूनी लड़ाई, हाई कोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक लड़ी लंबी लड़ाई

    बीएड डिग्री धारकों ने गुरुजी बनने के लिए 7 साल तक लड़ी कानूनी लड़ाई, हाई कोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक लड़ी लंबी लड़ाई

    कानूनी लड़ाई के बाद शिक्षक बने सरकारी स्कूल प्रयागराज |

    सरकारी स्कूल में टीचर बनने के लिए बेरोजगारों को साढ़े सात साल तक कानूनी लड़ाई लड़नी पड़ गई। देश के सर्वोच्च न्यायालय से आदेश होने के बाद पिछले महीने 14 मार्च को शिक्षा निदेशालय स्थित बेसिक शिक्षा परिषद कार्यालय में इन 17 अभ्यर्थियों की काउंसिलिंग कराई गई। अब इन्हें तैनाती का इंतजार है।.

    यह मामला 30 नवंबर 2011 को शुरू हुई 72825 प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती से जुड़ा है। तत्कालीन बसपा सरकार में भर्ती का विज्ञापन जारी हुआ था। राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) की गाइडलाइन के अनुसार योग्य अभ्यर्थियों ने आवेदन किया था।.

    इसमें परास्नातक के आधार पर बीएड किया था। ये वे अभ्यर्थी थे जिनके स्नातक में 50 प्रतिशत से कम अंक थे लेकिन परास्नातक में 50 प्रतिशत से अधिक अंक होने पर बीएड में दाखिला मिला था। हालांकि शासन से गठित हाईपावर कमेटी ने पीजी वालों को भर्ती से बाहर कर दिया।.

    2012 में सपा सरकार बनने के बाद 72825 प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती में टीईटी मेरिट और एकेडमिक रिकार्ड को लेकर विवाद खड़ा हो गया। फरवरी 2012 में तत्कालीन माध्यमिक शिक्षा निदेशक संजय मोहन की गिरफ्तारी के साथ शुरू हुई यह लड़ाई 25 जुलाई 2017 को सुप्रीम कोर्ट में समाप्त हुई।.

    72825 प्रशिक्षु शिक्षकों के पद में से अधिकांश पर चयन प्रक्रिया पूरी भी हो गई। हालांकि बेसिक शिक्षा विभाग के अफसरों ने पीजी के आधार पर बीएड करने वाले अभ्यर्थियों को नियुक्ति नहीं दी। इस पर गोरखपुर के नवीन श्रीवास्तव ने सुप्रीम कोर्ट में अवमानना याचिका दायर कर दी।.

    इस याचिका की सुनवाई के बाद सुप्रीम कोर्ट ने 27 फरवरी को चार सप्ताह के अंदर पीजी के आधार पर बीएड करने वाले अभ्यर्थियों के चयन का आदेश दिया। 14 मार्च को काउंसिलिंग और उसके तीन सप्ताह में नियुक्ति पत्र जारी करने को कहा है।.

    काउंसिलिंग में अरुण कुमार राय, पवन कुमार त्रिपाठी, नंद किशोर भारती, नवीन श्रीवास्तव, शिव कुमार नाथ तिवारी, दीप्तिमा त्रिपाठी, रंजना पांडेय, अमरनाथ शर्मा, संतोष कुमार त्रिपाठी, विद्या देवी, हरिशंकर चौधरी, नीलमणि श्रीवास्तव, सरोज कुमार मिश्र, वंदन तिवारी, रंजन ज्ञान, चंद्र प्रकाश व अनिल कुमार दीक्षित मौजूद थे।.

    सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर काउंसलिंग हो चुकी है। तीन सप्ताह के अंतर नियुक्ति पत्र मिलना है। हम गृह जनपद में तैनाती की मांग कर रहे हैं।.

    नवीन श्रीवास्तव, अभ्यर्थी.

    ●  72825 प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती में 17 अभ्यर्थियों को मिली नौकरी.

    ● परास्नातक के आधार पर बीएड करने वाले आवेदकों को राहत.

    ● सुप्रीम कोर्ट ने इन अभ्यर्थियों के चयन का दिया था आदेश.



    primary ka master - education and uptet breaking news