हाईकोर्ट का ऐतिहासिक निर्णय, हर महिला कर्मचारी मातृत्व अवकाश की हकदार,साथ ही अवकाश के दौरान का पूरा मानदेय दिया जाए: हाईकोर्ट - प्राइमरी का मास्टर - UPTET | Primary Ka Master | Basic Shiksha News | Shiksha Mitra News
  • primary ka master

    LATEST PRIMARY KA MASTER - BASIC SHIKSHA NEWS TODAY


    Saturday, 20 April 2019

    हाईकोर्ट का ऐतिहासिक निर्णय, हर महिला कर्मचारी मातृत्व अवकाश की हकदार,साथ ही अवकाश के दौरान का पूरा मानदेय दिया जाए: हाईकोर्ट

    हाईकोर्ट का ऐतिहासिक निर्णय, हर महिला कर्मचारी मातृत्व अवकाश की हकदार,साथ ही अवकाश के दौरान का पूरा मानदेय दिया जाए: हाईकोर्ट


    प्रयागराज। इलाहाबाद हईकोर्ट ने कहा है कि
    सभी महिला कर्मचारियों को 180 दिन की
    मातृत्व अवकाश प्राप्त करने का बैधानिक
    अधिकार है । चाहे वह स्थायी, अस्थायी,
    तदर्थ, संविदा या किसी भी अन्य रूप में
    कर्मचारी हों मातृत्व अवकाश पाने का सभी को
    समान अधिकार है । सरकार किसी के साथ
    भेदभाव नहीं कर सकती ।
    यह आदेश न्यायमूर्ति प्रकाश पाडिया ने अंशू
    रानी अनुदेशक पूर्व माध्यमिक विद्यालय
    गवाली बिजनौर की याचिका को स्वीकार करते
    हुए दिया हैं । कोर्ट ने बीएसए को आदेश दिया
    कि वह याची को छह माह का मातृत्व
    अवकाश स्वीकृत करें। बीएसए ने याची को
    सिर्फ 90 दिन का ही मातृत्व अवकाश स्वीकृत
    किया था। कोर्ट ने कहा है कि याची को

    अवकाश के दौरान का पूरा मानदेय दिया जाए
    । हाईकोर्ट ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हवाला
    देते हुए कहा है कि सरकारी स्थायी महिला
    कर्मी को 18 वर्ष से कम आयु के बच्चे की
    देखभाल करने के लिए 730 दिन की छुट्टी
    पाने का भी अधिकार है ।

    कोर्ट ने कहा है कि भारतीय संविधान सभी
    को समान अधिकार देता है ।और जाति धर्म
    लिंग आदि के आधार पर विभेद करने पर रोक
    लगाता है, केंद्र सरकार ने कानून बनाया है।
    ऐसे में सरकार मनमानी नहीं कर सकती।



    PRIMARY KA MANSTER WEELKY TOP NEWS

    PRIMARY KA MASTER MONTHLY TOP NEWS

    PRIMARY KA MASTER TOP NEWS

    PRIMARY KA MASTER NOTICE

    नोट:-इस वेबसाइट / ब्लॉग की सभी खबरें google search व social media से लीं गयीं हैं । हम पाठकों तक सटीक व विश्वसनीय सूचना/आदेश पहुँचाने की पूरी कोशिश करते हैं । पाठकों से विनम्रतापूर्वक अनुरोध है कि किसी भी ख़बर/आदेश का प्रयोग करने से पहले स्वयं उसकी वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें । इसमें वेबसाइट पब्लिशर की कोई जिम्मेदारी नहीं है । पाठक ख़बरों/आदेशों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा ।