मोबाइल बच्चों के लिए खतरनाक है WHO ने जारी की चेतावनी - प्राइमरी का मास्टर - UPTET | Primary Ka Master | Basic Shiksha News | Shiksha Mitra News
  • primary ka master

    UPTET | PRIMARY KA MASTER | BASIC SHIKSHA NEWS | SHIKSHA MITRA


    Tuesday, 4 June 2019

    मोबाइल बच्चों के लिए खतरनाक है WHO ने जारी की चेतावनी

    मोबाइल बच्चों के लिए खतरनाक है WHO ने जारी की चेतावनी


    WHO का कहना है कि 5 साल से कम उम्र के बच्चों का निर्धारित समय से ज्यादा स्क्रीन टाइम उनके शारिरिक और मानसिक विकास पर सीधा असर डालता है


    WHO ने हाल ही में जारी की गई रिपोर्ट में 5 साल से कम उम्र के बच्चों का स्क्रीन टाइम निर्धारित कर दिया है. (फोटो-Zeebiz/Piyush Sharma)



    नई दिल्ली । आज के दौर में इलैक्ट्रोनिक डिवाइसेस हमारी जिंदगी का अहम हिस्सा बन गई हैं. फिर चाहे वे पेरेंट्स हों या बच्चे. बच्चों को व्यस्त रखने के लिए माता-पिता अकसर उनके हाथ में फोन थमा देते हैं या फिर उन्हे टीवी के सामने बैठा देते हैं ।

    ऐसे में कई बार माता-पिता इस बात का ध्यान तक नहीं देते कि बच्चा क्या देख रहा है और कितनी देर से स्क्रीन के सामने है. शहरी जीवन शैली में बच्चों का खेल-कूद, भाग-दौड़ कम होती जा रही है. बच्चे ज्यादा से ज्यादा समय घर की चारदिवारी के अंदर इलैक्ट्रोनिक गैजेट्स के साथ बिताते हैं. इसका प्रभाव लंबे समय के बाद देखने को मिलता है ।

    2 साल की राबिया को कार्टून देखना पसंद है, चाहे वह किसी भी भाषा में हो. राबिया की मां फौज़िया बताती हैं कि राबिया हिन्दी, इंगलिश और स्पैनिश के कार्टून देखती है और उसी भाषा में बात करने की कोशिश करती है. वह दिन में 2 से 3 घण्टे स्क्रीन के सामने रहती है ।

    फौ़ज़िया बताती हैं कि जब घर में मेहमान आते हैं या जब वह काम में बहुत ज्यादा व्यस्त रहती हैं तब वे राबिया को फोन में कार्टून लगा कर दे देती हैं. उन्होंने बताया कि शुरुआत में वह ज्यादा समय के लिए राबिया को फोन दे देती थीं, लेकिन जब उन्होंने देखा कि राबिया बिना फोन के खाना नहीं खा रही है. तो उन्होंने धीरे-धीरे उसके स्क्रीन टाइम को कम कर दिया. वह कोशिश करती हैं कि राबिया को स्क्रीन से ज्यादा समय प्लेग्राउंड में बिताए ।

    उनका कहना है कि आज के समय में बच्चों को पूरी तरह से मोबाइल फोन से दूर नहीं रखा जा सकता. लेकिन अगर बच्चों को फोन से दूर करना है तो उसके लिए पेरेंट्स को बच्चों को दूसरे खेलों में व्यस्त रखना चाहिए ।

    WHO की चेतावनी -

    विश्व स्वास्थ संगठन यानी WHO ने हाल ही में जारी की गई रिपोर्ट में 5 साल से कम उम्र के बच्चों का स्क्रीन टाइम निर्धारित कर दिया है. अब तक लोगों का सिर्फ ये मानना था कि स्क्रीन के सामने ज्यादा समय बिताने से आंखें खराब होती हैं लेकन, डब्ल्यूएचओ की इस रिपोर्ट के मुताबिक, इसके परिणाम ज्यादा खतरनाक हैं ।

    5 साल से कम उम्र के बच्चों का निर्धारित समय से ज्यादा स्क्रीन टाइम उनके शारिरिक और मानसिक विकास पर सीधा असर डालता है. इस रिपोर्ट के जरिए WHO ने माता-पिता या अभिभावक को बच्चों को मोबाइल फोन, टीवी स्क्रीन, लैपटॉप और अन्य इलैक्ट्रोनिक उपकरणों से दूर रखने की हिदायत दी है ।

    WHO की गाइडलाइन-

    1 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए :

    एक साल से कम उम्र के बच्चों के लिए जीरो स्क्रीन टाइम निर्धारित किया गया है. यानी उन्हें बिलकुल भी स्क्रीन के सामने नहीं रखना है. इसके अलावा उन्हें दिन में आधा घण्टे पेट के बल लिटाना चाहिए. फर्श पर तरह-तरह के खेल खिलाना भी बच्चे के शारिरिक विकास के लिए बेहतर है. 
    1 से 2 साल के बच्चों के लिए :

    इस उम्र के बच्चों के लिए दिनभर में स्क्रीन टाइम 1 घण्टे से ज्यादा नहीं होना चाहिए. इसके साथ ही 3 घण्टे फिजिकल एक्टिविटी करने की सलाह दी गई है. इस उम्र में बच्चों को कहानी सुनाना उनके मानसिक विकास के लिए फाएदेमंद साबित होगा. 
    3 से 4 साल तक के बच्चों के लिए :

    3 से 4 साल की उम्र के बच्चों के लिए भी दिनभर में ज्यादा से ज्यादा समय 1 घण्टा निर्घारित किया गया है. लेकिन इनको 2 से 3 साल के बच्चों के मुकाबले ज्यादा फिजिकल एक्टिविटीस करने की सलाह दी गई है ।

    डॉक्टर भी सही मानते हैं WHO की गाइडलाइंस -

    मैक्स अस्पताल के मेन्टल हेल्थ एंड बिहेविरल सांइस डिपार्टमेंट के डायरेक्टर डॉ समीर मल्होत्रा बताते हैं कि बच्चों के मानसिक और शारिरिक विकास के लिए बातचीत बहुत जरुरी है. 5 साल से कम उम्र के बच्चों कॉगनिटिव स्किल विकसित नहीं हो पाती है ।

    इसका मतलब ये है कि बच्चे सही और गलत में फर्क नहीं कर सकते. वे जो देखते हैं वही सीखते हैं. कई बार देखा गया है कि बच्चे कार्टून की तरह ही बोलने की कोशिश करते हैं. कई पेरेंट्स ये शिकायत लेकर भी आते हैं कि बच्चे बहुत ज्यादा एग्रेसिव हो रहे हैं ।

    अकसर पेरेंट्स बच्चों को खाना खिलाने के लिए भी टीवी के सामने बैठा देते हैं या फिर फोन में कुछ न कुछ लगा कर दे देते हैं. ये बहुत ही गलत प्रेक्टिस है. ऐसे में बच्चों का ध्यान बट जाता है और वे भूख से ज्यादा खाना खा लेते हैं. इस उम्र में बच्चों की इमेजिनेशन तेज होती है. इसलिए पहले लोग बच्चों को कहानियां सुनाया करते थे. लेकिन अब पेरेंट्स कहानियां सुनाने की बजाय बच्चों को फोन पकड़ा देते हैं ।

    (पीयूष शर्मा की रिपोर्ट)

    PRIMARY KA MANSTER WEELKY TOP NEWS

    PRIMARY KA MASTER MONTHLY TOP NEWS

    PRIMARY KA MASTER TOP NEWS

    PRIMARY KA MASTER NOTICE

    नोट:-इस वेबसाइट / ब्लॉग की सभी खबरें google search व social media से लीं गयीं हैं । हम पाठकों तक सटीक व विश्वसनीय सूचना/आदेश पहुँचाने की पूरी कोशिश करते हैं । पाठकों से विनम्रतापूर्वक अनुरोध है कि किसी भी ख़बर/आदेश का प्रयोग करने से पहले स्वयं उसकी वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें । इसमें वेबसाइट पब्लिशर की कोई जिम्मेदारी नहीं है । पाठक ख़बरों/आदेशों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा ।