कोरोना वायरस के प्रकोप से महाकाल भगवान शिव ने पहना मास्क, कोरोना वायरस के लक्षण और बचाव जाने - प्राइमरी का मास्टर - UPTET | Primary Ka Master | Basic Shiksha News | Shiksha Mitra News लॉकडाउन के दौरान पढ़ाई कैसे इस सम्बन्ध में टिप्स : इस समय हमारा देश नावेल कोरोना वायरस (COVID-19) महामारी से जूझ रहा है । पूरे देश में लॉकडाउन के कारण स्कूल बंद हैं । जिससे बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है । ऐसे में शिक्षक मोबाइल द्वारा अभिभावकों व बच्चों से बात करें । उन्हें कोरोना वायरस से बचाव के तरीके बताएं ।बच्चों को पढ़ाई के लिए प्रेरित करें । शिक्षा विभाग द्वारा जारी एजुकेशनल ऐप Diksha, E-Pathshala, Nishtha ऐप में डिजिटल पठन पाठन सामग्री है । ये Google Play Store में उपलब्ध हैं । स्मार्टफोन में डाउनलोड कर अभिभावकों से बच्चों को घर पर ही पढ़ाई के लिए प्रेरित करें । यूनिसेफ द्वारा प्रायोजित "मीना की दुनिया" व " फुल ऑन निक्की" रेडियो कार्यक्रम सुनाएं । उनके साथ शैक्षिक गेम जैसे पहेली आदि खेले,आलेख, सुलेख, चित्रकला संबंधी गतिविधियाँ कराएँ ।
  • primary ka master

    Wednesday, 11 March 2020

    कोरोना वायरस के प्रकोप से महाकाल भगवान शिव ने पहना मास्क, कोरोना वायरस के लक्षण और बचाव जाने

    वाराणसी - primary ka master news : देश में इन दिनों कोरोना वायरस (corona vid2019) का प्रकोप चल रहा है । चीन से निकला कोरोना नाम का यह वायरस अब तक 90 देशों में फैल चुका है । देश में कोरोना वायरस के चपेट में अब 47 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हो चुकी है।  प्रदेश सरकार कोरोना वायरस के बचाव हेतु एडवाइजरी जारी कर चुकी है । 


    लोगों को कोरोना वायरस के बचाव के लिए एहतियात बरतने की सलाह दी जा रही है । और लोगो को भी जागरूक किया जा रहा है ।

    अब तो महाकाल शिव ने कोरोना के डर से पहना मास्क :

    कोरोना के डर से वाराणसी के प्रह्लादेश्वर मंदिर में शिवलिंग को मास्क से ढक दिया है । और मंदिर के बाहर पोस्टर लगाकर कोरोना से लोगों को सचेत किया गया है।

    क्या लिखा है पोस्टर में -
    लिखा है कि मंदिर में आने वाले भक्तों से अपील है कि वह मूर्तियों को न छुएं, और फिलहाल ऐसे ही पूजा करें।

    भगवान शिव को मास्क पहनाने के पीछे पुजारी का क्या है कहना -

    महाकाल माने जाने वाले शिव को मास्क पहनाने के पीछे मंदिर के पुजारी कृष्णा आनंद पांडे का कहना है - कि अगर भक्त मूर्ति को छुएंगे तो कोरोना वायरस अधिक लोगों तक फैलेगा। साथ ही भक्तों से मंदिर आने पर मास्क पहनने की सलाह दी गई है।

    वैसे इन घटना के बाद कुछ लोगों का कहना है कि भगवान शिव के पास लोग कोरोना से बचाव की प्रार्थना लेकर आ रहे हैं ।
    कोरोना रोग से मुक्त होने के लिए महाकाल भगवान शिव की पूजा कर रहे हैं । ऐसे में जब भगवान शिव स्वयं ही कोरोना के डर से मास्क पहन लेंगे । तब भक्तों को भी मास्क का ही सहारा है । 
    कोरोना वायरस के पांच और नए मामले सामने आने के बाद संक्रमित लोगों की संख्या 47 हो गई। स्वास्थ्य मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली, जम्मू-कश्मीर और केरल में एक-एक पॉजिटिव केस मिला है।
    केरल राज्य में तीन साल के बच्चे में कोरोना की पुष्टि हुई है। वहीं पंजाब के होशियारपुर और बंगलूरू में भी एक-एक मरीज की पुष्टि हुई। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, 47 में से केरल के तीन मरीज ठीक होकर घर जा चुके हैं।

    कोरोना वायरस के लक्षण - Symptoms of Corona Virus -

    कोरोना वायरस का प्रभाव होने पर बुखार आता है ।
    कोरोना वायरस से पीड़ित व्यक्ति को सर्दी व खांसी - जुकाम हो जाता है । गले में खरास व पीड़ित को सांस लेने में परेशानी होती है। कोरोना वायरस से पीड़ित व्यक्ति को निमोनिया रोग हो जाता है ।
    कोरोना वायरस का मामला  इस समय बड़ा गम्भीर है । स्वास्थ्य विभाग ने साथ ही पिछले 28 दिनों में चीन, कोरिया, इटली, जापान, हांगकांग, वियतनाम, मकाऊ, मलेशिया, इंडोनेशिया, नेपाल, सिंगापुर, थाईलैंड, ताइवान, ईरान की यात्रा करने वाले लोग 14 दिन तक घरों में ही रहने की सलाह दी है।

    कोरोना वायरस से कैसे बचें (How to avoid corona virus)

    खतरनाक कोरोना वायरस है तो बड़ा खतरनाक । लेकिन अगर हम  कुछ सावधानियां बरतें तो इस जानलेवा वायरस की चपेट में आने से बच सकते हैं । इसके लिए थोड़ी सी समझदारी, बुद्धिमानी और बहादुरी दिखानी होगी ।
    primary ka master web portal में हम आपको बता रहें हैं कि इस कोरोना वायरस से बचाव के लिए क्या करें, और क्या नहीं और कोरोना वायरस के लक्षण क्या हैं ?

    कोरोना वायरस कैसे फैलता है How the corona virus spreads

    यह वायरस, खांसी, छींक, श्वास और छूने से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है।
    कोरोना वायरस के बचाव कैसे करें How to protect the corona virus
    • कोरोना वायरस से बचाव के लिए मास्क का इस्तेमाल करें।
    • इस वायरस का आकार 400-500 माइक्रोन का है जो अन्य वायरस से बड़ा है। इसलिए कोई भी साधारण मास्क का प्रयोग कर सकते हैं । वैसे N95 मास्क अधिक प्रभावी माना जाता है ।
    • सार्वजनिक स्थलों और भीड़भाड़ वाले स्थानों पर जाने से बचें। किसी से हाथ न मिलाएं और न ही किसी को गले भी न लगाएं । 5 फीट की दूरी से बात करें।
    • कोरोना नाम का यह वायरस धातु की सतह पर 12 घंटे, कपड़ों पर 9 घंटे, और हमारे हाथों तथा शरीर पर 10 मिनट तक जीवित रहता है। इसलिए अपने आसपास और घर की सफाई रखें।
    • कपड़ों को अच्छी तरह से धोएं और कम से कम दो घंटे धूप में सुखाएं।
    • हर 15 मिनट में कम से कम एक घूंट गुनगुना पानी पीते रहें। 
    • अपने हाथों को कम से कम 20 सेकंड तक रगड़कर साबुन से धोएं।
    • गंदे हाथों से अपनी नाक और मुंह को न छुएं और न ही गंदे हाथों से कुछ खाएं।
    • आइसक्रीम, कोल्डड्रिंक, बर्फ, बाजार की लस्सी, ठंडी छाछ और अन्य ठंडी वस्तुओं के सेवन से बचें।
    • बाजार में मिलने वाले दूध से बने उत्पाद जैसे चीज, बटर, मायोनीज से परहेज करें । नमक के गर्म/गुनगुने पानी से गरारे करें, इससे वायरस फेफड़ों तक नही पहुंच पाएगा । 
    • रोजाना तुलसी, लौंग, अदरक और हल्दी का गर्म दूध पिएं। 
    • गर्म स्थान पर रहें क्योंकि यह वायरस 27 डिग्री तापमान पर मर जाता है। कपूर, लौंग, इलाइची और जावित्री को पीसकर अपने साथ रखें और समय-समय पर उसे सूंघते रहें विटामिन-सी युक्त फलों जैसे संतरे, मौसमी और आंवला खाएं।
    • नींबू का इस्तेमाल भी जरूर करें।
    • प्रतिदिन प्राणायाम और सूर्य नमस्कार करें। इससे श्ववसन तंत्र और फेफड़े मजबूत होंगे। घर में किसी को भी सर्दी, खांसी, कफ, बुखार हो तो डॉक्टर के पास तुरंत जाने की सलाह दें।
    •  जिस व्यक्ति को कोरोनावायरस का संक्रमण हो उस व्यक्ति से दूरी बनाकर रखें।
    • जब तक कोरोना वायरस का प्रकोप खत्म नही हों जाता शाकाहारी और हमेशा ताजा भोजन खाएं। मांसाहार के सेवन से बचें।
    • घर के फ्रीज में रखी ठंडी वस्तुओं का सेवन बिल्कुल न करें।

    Like us on Facebook

    Like US on Facebook

    PRIMARY KA MASTER NOTICE

    नोट:-इस वेबसाइट / ब्लॉग की सभी खबरें google search व social media से लीं गयीं हैं । हम पाठकों तक सटीक व विश्वसनीय सूचना/आदेश पहुँचाने की पूरी कोशिश करते हैं । पाठकों से विनम्रतापूर्वक अनुरोध है कि किसी भी ख़बर/आदेश का प्रयोग करने से पहले स्वयं उसकी वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें । इसमें वेबसाइट पब्लिशर की कोई जिम्मेदारी नहीं है । पाठक ख़बरों/आदेशों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा ।