आर्थिक तंगी का हवाला देकर निजी स्कूलों ने सरकार से मांगा राहत पैकेज - primary ka master private school ask relief package


स्ववित्त पोषित विद्यालय प्रबंधक महासंघ ने मुख्यमंत्री को पत्र भेजकर वित्तविहीन विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों को आर्थिक पैकेज दिए जाने की मांग की है। संघ के प्रदेश महासचिव सीताराम सिंह चौहान ने बताया कि वित्तविहीन विद्यालय कम फीस में बच्चों को पढ़ाते हैं।



इन विद्यालयों में कम आय वर्ग के अभिभावकों के बच्चे पढ़ते हैं। लॉकडाउन की वजह से विद्यालयों की फीस नहीं मिल रही है। शिक्षक और स्कूल आर्थिक तंगी से जूझ रहे हैं। उन्होंने सीएम से मांग की है कि इन विद्यालयों के बिजली-पानी के बिल माफ किए जाएं, साथ ही इनमें कार्यरत शिक्षकों को कम से कम 5000 रुपये प्रतिमाह के हिसाब से आर्थिक पैकेज दिया जाए।