3342 पैन कार्ड बदलने वाले शिक्षक कार्यवाही की जद में - Primary Ka Master Pan Card Suspect
लखनऊ : बेसिक शिक्षा परिषद की ओर से संचालित स्कूलों के 3342 शिक्षक ऐसे हैं जिन्होंने नौकरी पाने के बाद अपने पैन नंबर बदले हैं। बेसिक शिक्षा विभाग ने ऐसे मामलों को संदिग्ध मानते हुए इसकी जानकारी पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) को दी है।

परिषदीय स्कूलों में फर्जी और कूटरचित दस्तावेजों के आधार पर शिक्षकों की नियुक्तियां बड़े पैमाने पर हुई हैं। पुलिस के विशेष जांच दल (एसआइटी) और एसटीएफ की जांचों में बड़ी संख्या में ऐसे मामले उजागर हुए हैं। इधर कुछ महीनों से विभाग ने शिक्षकों का ब्योरा मानव संपदा पोर्टल पर अपलोड करना शुरू किया है। इनमें शिक्षकों के पैन नंबर बदले जाने के कुछ प्रकरण सामने आए थे। इस पर विभाग ने प्रदेश के विभिन्न जिलों के कोषागारों से भी इस बाबत ब्योरा मांगा था।

इन जिलों में ज्यादा मामले


मऊ-747, गोंडा-642, बदायूं-459, देवरिया-381, गोरखपुर-279, ललितपुर-153, कासगंज-131, बस्ती-101, संत कबीर नगर-95, कुशीनगर-70, महोबा-67, जौनपुर-48, मथुरा-29, प्रतापगढ़-28, वाराणसी- 27

ऐसे प्रकरणों को संदिग्ध मान रहा बेसिक शिक्षा विभाग, जांच के लिए एसटीएफ को दी जानकारी

इन जिलों में हुई बर्खास्तगी


बागपत-1, कासगंज-3, कानपुर देहात-1, रायबरेली-1, अमेठी-1, सहारनपुर-दो, मैनपुरी-2, फीरोजाबाद-1, प्रयागराज-1, वाराणसी-1, जौनपुर-1, अंबेडकरनगर-1, आजमगढ़-1, अलीगढ़-2 और हरदोई-1

इन जिलों में संविदा समाप्त करने की कार्यवाही जारी


बुलंदशहर-3, फरुखाबाद-2 और सीतापुर-1