वर्ष 2018-19 से कम्पोजिट ग्रांट के खर्च का विवरण बेसिक स्कूलों के दीवारों पर दिखेगा, 6 फीट ऊंची व 5 फीट चौड़ाई में होगा ब्यौरा Composite Grant Details

सत्र 2018-19 से सभी परिषदीय स्कूलों को कंपोजिट स्कूल ग्रांट दी जा रही है। इसके तहत स्कूलों ने क्या कार्य कराया है, उसका विवरण अब स्कूलों को देना होगा। यह विवरण फाइल में बंद नहीं होगा बल्कि स्कूल की दीवार को पेंट कराकर उसपर अंकित कराना है। ऐसा इसलिए कि पारदर्शिता बनी रहें और स्कूल में कराए गए कार्यों की जानकारी आसपास के लोगों को भी हो।


बेसिक शिक्षाधिकारी संजय कुशवाहा ने बताया कि सभी परिषदीय स्कूलों के प्रधानाध्यापकों को अपने यहां आई कंपेजिट ग्रांट का विवरण देना है। इसके लिए स्कूल की वह दीवार चुनी जाए जो सब से पहले दिखती हो। उसपर 1.8 मीटर (छह फिट) ऊंची व 1.5 मीटर (पांच फिट) चौड़ाई के क्षेत्र में पेंटिंग कराई जाए। उस स्थान को सीमेंट बेस्ड पुट्टी से समतल भी कराना होगा। उसके बाद दो कोट में पीले रंग से पुताई कराई जानी चाहिए फिर लाल रंग से किनारा बनाकर काले रंग से खर्च का विवरण अंकित कराना होगा। यह कार्य सभी स्कूलों में हर हाल में 25 दिसंबर तक पूरा करा लेने का निर्देश राज्य परियोजना निदेशक विजय किरन आनंद की तरफ से दिया गया है।

कुछ स्कूलों में कार्य शुरू हो चुका है। समय से पहले सभी स्कूल विवरण अंकित करा देंगे। खास बात यह कि स्कूलों को सत्रवार विवरण अंकित कराना है। यदि किसी विद्यालय ने धनराशि का प्रयोग नहीं किया है तो भी बताना होगा कि उस रकम का प्रयोग नहीं हुआ। विद्यालय समिति के साथ ही आसपास के लोग भी इस कार्य को देखेंगे। यदि किसी को शिकायत होगी तो भी उस संबंध में जन सामान्य अपनी बात रख सकेगा। यह कदम सिर्फ इसलिए उठाया जा रहा है कि पारदर्शिता बनी रहे।