इंचार्ज हेड मास्टर पद से 37 शिक्षकों ने दिया इस्तीफा वहीं 41 शिक्षकों ने स्कूलों में एमडीएम बनवाने से किया इंकार - Mdm Latest News 2021

फर्रुखाबाद: बेसिक शिक्षा विभाग में काम के बोझ से परेशान होकर आखिरकार 37 शिक्षकों ने इंचार्ज प्रधानाध्यापक पद से अपना इस्तीफा दे दिया है। इस्तीफा बेसिक शिक्षाधिकारी के पास भेज दिया गया है। इससे यहां विभाग में भूचाल आ गया है।



सीतापुर प्रयागराज के बाद तीसरा यह जिला है जहां पर इतनी बड़ी संख्या में बेसिक शिक्षकों ने प्रभारी के पद से किनारा कर लिया है। जिले के जूनियर स्कूलों में करीब 90 फीसदी और प्राइमरी स्कूलों में 40 फीसदी शिक्षकों को इंचार्ज प्रधानाध्यापक का दायित्व दिया गया है। तमाम तरह की जवाबदेही से शिक्षक इस कदर टेंशन में हैं कि वह
पिछले काफी समय से इस्तीफा देने का मन बना थे । जब सीतापुर में इसको लेकर पहल की गई तो यहां के जूनियर और प्राइमरी शिक्षक संगठन के लोग भी सक्रिय हुए | सबसे अधिक इंचार्ज प्रधानाध्यापकों को दिक्कत शासन की ओर से तय किए गए 14 पैरामीटर्स को लेकर है। इसके साथ ही तमाम प्रकार के एप भी उनके लिए बवाल बने हैं । एक मार्च को स्कूल खुल रहे हैं और ऊपर से एप के माध्यम से विभिन्न प्रकार के काम भी रहेगे तो बच्चों को पढ़ाने की नौबत कब आएगी । यह अपने आप में बड़ी समस्या बन गई है। राजेपुर ब्लाक के शिक्षकों ने सबसे पहले इसको लेकर पहल की और इंचार्ज प्रधानाध्यापक पद से इस्तीफा बीएसए को भेज दिया। इस्तीफा देने वालों में सरोज कुमारी, पूजा मेहरा, रीना पांडेय, रेनू मिश्रा, रजनी, प्रीती सिंह, किरन मौर्या, संध्या कुमारी, सुधा वर्मा, सुधीर कुमार, सरोज कुमार वर्मा, विजय कुमार मिश्रा , महेश कुमार सिंह, विपिन कुमार, राहुल प्रताप, बृजकिशोर सिंह, कर्मवीर, दीप कुमार, रवि कुमार, महेंद्र सिंह, उमाकांत, उपेंद्र वर्मा, सीबा खानम, रेसी कटियार, रत्नेंद्र विक्रम, मनोज कुमार शाक्य, कविता, अखिलेश कुमार, संजय वर्मा, रेखा अवस्थी शामिल हैं। इन सभी ने इंचार्ज प्रधानाध्यापक पद से कार्यमुक्त की बीएसए से मांग की है।