बीआरसी में दो दिवसीय ट्रेनिंग में बासी भोजन परोसा गया, शिक्षकों ने किया हंगामा, 130 रुपये प्रति शिक्षक विभाग दे रहा पैसा - BRC Training Food Low Quality 2021

बलरामपुर:- बुनियादी शिक्षा मजबूती को लेकर बेसिक शिक्षा विभाग के तत्वावधान में जिले के सभी शिक्षा क्षेत्रों के ब्लॉक संसाधन केंद्रों पर अध्यापकों एवं शिक्षामित्रों का दो दिवसीय प्रशिक्षण संचालित किया जा रहा है। जिले के नौ शिक्षा क्षेत्र एवं दो नगर शिक्षा संसाधन केंद्रों पर 5847 प्रधानाध्यापक, सहायक अध्यापक एवं शिक्षामित्रों को प्रशिक्षण दिया जाना है। इनमें लगभग 25 प्रतिशत शिक्षक व शिक्षामित्रों का प्रशिक्षण पूरा हो चुका है


प्रशिक्षण के दौरान अध्यापकों के चाय, नाश्ते, भोजन वस्टेशनरी के लिए विभाग से कार्यदायी संस्थाओं को 17 लाख 54 हजार 100 रुपए निर्गत किए गए हैं। जिले के सभी ब्लॉक संसाधन केंद्रों पर एक साथ प्रशिक्षण शुरू किया गया है। प्रशिक्षण शुरू होते ही कार्यदायी संस्थाओं ने प्रशिक्षुओं के निवाले में कटौती करना शुरू कर दिया है। शासन के आदेशों के विपरीत कार्यदायी संस्थाओं की ओर से शिक्षकों व शिक्षामित्रों को मानक एवं गुणवत्ता विहीन भोजन दिए जाने की चर्चा है। इसको लेकर ब्लॉक संसाधन केंद्र शिवपुरा में शिक्षक व शिक्षामित्रों प्रदर्शन कर हंगामा भी कर चुके हैं। शिक्षक व शिक्षामित्रों का आरोप रहा है कि बासी भोजन परोसा जा रहा है, जो शिक्षकों के सेहत को बिगाड़ने का कार्य कर सकता है । चाय व नाश्ता भी नहीं मिल रहा । शिक्षकों के प्रदर्शन करते ही कार्यदायी संस्था हरकत में आ गई। कमोवेश यही
हाल सदर एवं रेहरा बाजार तथा उतरौला समेत अन्य ब्लॉक संसाधन केंद्रों का भी है। कार्यदायी संस्था की मनमानी एवं संबंधित खंड शिक्षाधिकारियों की शिथिलता शिक्षकों की सेहत पर भारी पड़ सकती है। विभागीय जानकारों की माने तो प्राइमरी संवर्ग में प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले प्रत्येक अध्यापक एवं शिक्षामित्र के लिए मध्यान्ह भोजन एवं सुबह-शाम चाय व नाश्ते के लिए 130 रुपए प्रतिदिन के हिसाब से प्रति अध्यापक पर निर्धारित है । साथ ही 40 रुपए स्टेशनरी पर व्यय होना है। ब्लॉक संसाधन केंद्र पचपेड़वा में 644, रेहरा बाजार में 529, सदर ब्लाक में 941, गैसडी में 774, श्रीदत्तगंज में 509, उतरौला में 426, गैड़ास बुजुर्ग में 346, हरैया सतघरवा में 839 व तुलसीपुर में 792 अध्यापक एवं शिक्षामित्रों को प्रशिक्षण दिया जाना है।

जिले के सभी ब्लॉक संसाधन केंद्रों पर जारी प्रशिक्षण में प्रशिक्षुओं को गुणवत्ता एवं मानक युक्त भोजन तथा नाश्ता देने का निर्देश है। जिसके लिए कार्यदायी संस्था को धनराशि दी गई है। मानक एवं गुणवत्ता की अनदेखी करने एवं शिकायत मिलने पर संबंधित खंड शिक्षाधिकारी एवं कार्यकारी संस्था के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। - डा.रामचंद्र, बीएसए बलरामपुर