पे रोल मॉड्यूल व्यवस्था जल्द लागू होने के आसार, अब शिक्षकों को समय से मिलेगा वेतन, सभी जिलों में 'पे रोल मॉडयूल' लागू होगा, 5 लाख शिक्षकों को लाभ - primary ka master pay roll modules

राज्य के पांच लाख से ज्यादा शिक्षकों के लिये अच्छी खबर। समय पर वेतन और एरियर नहीं मिल पाने की उनकी परेशानी नये शैक्षणिक सत्र से दूर होने जा रही है। दरअसल अब सभी जिलों में शिक्षकों के लिये 'पे रोल मॉडयूल' लागू किया जा रहा है। इससे सरकारी प्राइमरी स्कूलों के शिक्षकों को न सिर्फ समय पर वेतन मिल सकेगा, बल्कि छुट्टी में होने वाले खेल से भी निजात मिल सकेगी।

मार्च आ गया, फरवरी का वेतन नहीं मिला : फिलहाल उत्तर प्रदेश के 200 ब्लॉकों में यह 'पे रोल मॉडयूल लागू किया जा सका है। अब इसे सभी 822 ब्लॉको में लागू करने का फैसला लिया गय है। आमतौर पर शिक्षकों को वेतन महीने की पांच से 10 तारीख के बीच मिल पाता है। लखनऊ में ही अभी तक ज्यादातर ब्लॉकों में फरवरी का वेतन नहीं मिल पाया है। वेतन बनाने का काम खण्ड शिक्षा अधिकारी के स्तर पर होता है। शिक्षकों की उपस्थिति आदि के आधार पर बीईओ वेतन बिल वित्त व लेखाधिकारी के पास जमा करते हैं और इसके बाद ही वेतन जारी होता है। मानव संपदा पोर्टल से सम्बद्ध है ये

मॉड्यूलः पोर्टल पर शिक्षकों की छुट्टियों का बहीखाता मौजूद है। इसके हिसाब से वेतन बन कर बीईओ के डिजिटल साइन से वित्त वलेखाधिकारी के पास ऑनलाइन जाएगा और निश्चित समयसीमा में वेतन जारी करना होगा। छुट्टियां मंजूर करने के लिए भी समय सीमा व अफसरों की जवाबदेही तय है। इसके लागू होने के बाद अधिकारियों की कार्यप्रणालीपरशासननजर रख सकेगा और शिक्षकों को बीईओ कार्यालय से चक्कर लगाने से निजात मिलेगी।


छुट्टियों के नाम पर होता है खेल, कटता है वेतन

सबसे ज्यादा खेल बाल्य देखरेख अवकाश में होता है। ज्यादातर जगह बिना सुविधा शुल्क दिए छुट्टियां मंजूर नहीं होती और यदि शिक्षिका बिना मंजूरी के छुट्टी पर चली जाती है तो उसका वेतन काट लिया जाता है। फिर एरियर जारी करने के नाम पर भी खेल होता है। लखनऊ में ही एक शिक्षिका ने बच्चे की परीक्षा के नाम पर बाल्य देखरेख अवकाश के तहत छुट्टी का आवेदन किया और इसे इस वजह से नामंजूर कर दिया गया कि बच्चा बोर्ड परीक्षा नहीं दे रहा। अब पे रोल मॉडयूल जारी होने के बाद उन्हें इससे निजात मिलेगी और यदि उनका वेतन कटा तो समय पर एरियर उनके खाते में आ जाएगा।


ये हैं फायदे

समय पर वेतन, छुट्टियों के नाम पर होने वाले खेल से छुटकारा रिटायरमेंट के बाद भुगतान को लेकर झंझट नहीं कर्मचारी के वेतन विवरण का ऑनलाइन प्रबंधन वेतन विस्तार में अपडेशन का ट्रैक रिकॉर्ड, वेतन बिल (जीपीएफ और एनपीएस आदि) एक नजर में ही दिखेगा सैलरी एडवाइज व फार्म 16 यहीं से मिलेगा