ये कैसा इंसाफ ..? भविष्य में इसे दृष्टांत न माना जाए, की आड़ पर गुपचुप हो रहे अंतर्जनपदीय तबादले, साधारण शिक्षक सालों से देख रहे तबादले की राह - Up Teacher Transfer Latest News 2021

परिषदीय प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक स्कूलों में शिक्षकों के अंतर जनपदीय तबादले में जमकर मनमानी की गई है। कहने को तो विभाग ने दिसंबर 2019 में शिक्षकों से स्थानान्तरण के लिए ऑनलाइन आवेदन लिए थे। कानूनी अड़चनों के बाद 31 दिसंबर की रात 21695 शिक्षकों की अंतर जनपदीय और 18 फरवरी को 4868 शिक्षकों की पारस्परिक तबादला सूची जारी हुई।


हालांकि ऑनलाइन आवेदन लेने से पहले और बाद में कई शिक्षकों का मनमाने तरीके से तबादला किया गया। कई को इनकार भी कर दिया गया। ऐसे कई मामले हाईकोर्ट में लंबित हैं। प्राथमिक विद्यालय कसिया कुशीनगर की सहायक अध्यापिका बबिता ने स्वयं के कैंसर पीड़ित होने के कारण तबादले की गुहार लगाई थी लेकिन विभाग ने नामंजूर कर दिया। बबिता की याचिका पर हाईकोर्ट ने पिछले दिनों सरकार से जवाब तलब किया है।

जबकि ऐसे ही एक मामले में 19 जनवरी 2021 को शासन ने अंजू सिन्हा को सीतापुर से लखनऊ ट्रांसफर करने का आदेश जारी किया है। प्राथमिक विद्यालय नयागांव सिधौली सीतापुर की प्रधानाध्यापिका अंजू सिन्हा और उनके पति दोनों कैंसर पीड़ित हैं। वहीं दूसरी ओर कई कैंसर पीड़ित का तबादला भी नहीं हो सका।

मनमाने तरीके से हुए ऑफलाइन तबादले

पिछले चार सालों में दर्जनों परिषदीय शिक्षकों के ऑफलाइन तबादले किए गए हैं। विशेष सचिव शासन आनंद कुमार सिंह ने 5 अक्तूबर 2018 को सनी चौधरी को गोंडा से शामली ट्रांसफर करने की अनुमति इस शर्त पर दी कि इसे भविष्य में दृष्टांत न माना जाए। अनु सचिव शासन उमेश कुमार तिवारी ने 31 दिसंबर 2018 को ममता त्यागी का तबादला कुशीनगर से हापुड़ करने का आदेश दिया। उमेश कुमार तिवारी ने ही 15 नवंबर 2018 को अर्चना सिंह का तबादला गोंडा से फैजाबाद करने का आदेश दिया था और उसी दिन तत्कालीन सचिव बेसिक शिक्षा परिषद रूबी सिंह ने तबादला आदेश जारी कर दिया था। विशेष सचिव शासन एस. राजलिंगम ने 30 जनवरी 2018 को अर्चना शर्मा का ट्रांसफर मथुरा से गौतमबुद्धनगर, रेनू का तबादला हरदोई से आगरा, शुभ्रा माहेश्वरी को बाराबंकी से लखनऊ, बिंदु दीक्षित को उन्नाव से शाहजहांपुर, सुनीता सोनकर देवरिया से मऊ, शुभ्रा तिवारी श्रावस्ती से गौतमबुद्धनगर, प्रियंका सिसौदिया को लखीमपुर खीरी से बिजनौर और निरुपमा सोनकर का तबादला सीतापुर से गाजियाबाद, बागपत या हापुड़ में से किसी जिले में करने का आदेश दिया।