प्रयागराज में निजी स्कूल कर रहे मनमानी, कोरोना महामारी के बीच ऑनलाइन क्लास के लिए बुला रहे स्कूल - violation for work from home in Private school

प्रयागराज। कोरोना का संक्रमण तेजी से फैलने और लगातार लोगों के मौत के मुंह में जाने के बाद प्रदेश सरकार के निर्देश पर शिक्षकों को वर्कफ्राम होम का निर्देश दिया गया है। सरकार के निर्देश के बाद भी शहर के कुछ निजी स्कूलों में शिक्षकों को ऑनलाइन क्लास के लिए जबरन बुलाया जा रहा है। हालत यह है कि इन स्कूलों के कई शिक्षक एवं कर्मचारी कोरोना के संक्रमण की चपेट में आकर जान गंवा चुके हैं। इसके बाद भी स्कूल प्रबंधन शिक्षकों को बुलाने से बाज नहीं आ रहे।
 


स्कूल प्रबंधन की ओर से ऑनलाइन क्लास के लिए स्कूल नहीं आने की स्थिति में नौकरी से निकालने की धमकी दी जा रही है। शिक्षक नौकरी पर खतरा देखकर कोरोना संकट के बीच मौत से समझौता कर स्कूल जा रहे हैं। कोरोना संक्रमण के चलते शहर के बड़े स्कूलों में से एक ब्वायज हाईस्कूल के वरिष्ठ शिक्षक संदीप चिंतामणि का रविवार को निधन हो गया।
इससे पहले शहर के ही पतंजलि ऋषिकुल की सीनियर कोआर्डिनिटर अपर्णा मन्‍ना का कोरोना के चलते निधन हो गया था। महर्षि पतंजलि विद्या मंदिर के कार्यालय सहायक रवि और गंगागुरुकुलम की शिक्षिका नीलिमा का कोरोना के चलते निधन हो गया।
शहर के दूसरे स्कूलों में भी बड़ी संख्या में शिक्षक एवं कर्मचारी बीमार पड़े हैं। इसके बाद भी विद्यालय प्रबंधन ऑनलाइन क्लास के लिए शिक्षकों के साथ मनमानी कर रहे हैं। निजी स्कूलों के शिक्षकों एवं कर्मचारियों का कहना है कि स्कूल प्रबंधन उन्हें निजी प्रकाशकों से मिली किताबों की विषयवार छंटनी के लिए विद्यालय बुला रहे हैं। स्कूल प्रबंधन की इस मनमानी से शिक्षकों में नाराजगी है।