Shikshamitra Assistant Teacher Abhiyan 2018 : शुरू हुआ शिक्षामित्रों को ये बड़ा अभियान, शिक्षामित्र अब बनकर रहेंगे शिक्षक

*अनिल सोनी- 25/03/18*

*आगरा।* विगत कई महीनों से शिक्षामित्रों का सहायक शिक्षक के पद का समायोजन मामला लंबित पड़ा है। सरकार द्वारा रुचि न दिखाए जाने के आरोप शिक्षामित्रों ने लगाए थे। कई शिक्षामित्र आहत होकर घातक कदम उठा चुके हैं। शिक्षामित्रों ने शिक्षक बनाओ अभियान तेज कर दिया है। उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षामित्र संघ ने रविवार को योगी सरकार के कैबिनेट मंत्री, मोदी सरकार के सांसद और भाजपा विधायकों को *शिक्षामित्र शिक्षक बनाओ अभियान में ज्ञापन सौंपा।*
उचित कदम उठाकर शासन तक आवाज पहुंचाने का आश्वासन
उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षामित्र संघ के शिक्षा मित्रों ने जिलाध्यक्ष वीरेंद्र छोंकर के नेतृत्व में विधायक योगेंद्र उपाध्याय को मुख्यमंत्री के नाम संम्बोधित छह सूत्रीय मांग पत्र सौंपा। विधायक योगेंद्र उपाध्याय ने कहा माननीय न्यायालय के निर्णय की परिधि के अंतर्गत शिक्षा मित्रों के हित में उचित कदम उठाने के संदर्भ में शासन तक आवाज पहुंचाएंगे। जो जिला स्तरीय समस्याएं हैं अधिकारियों से बात कर दूर कराएंगे। इस दौरान भाजपा नेता केके भारद्वाज, बृजेश पाराशर, सुनील करमचंदानी, ईश्वरी प्रसाद, सियाराम प्रजापति, मुरली आदि मौजूद रहे।
*कैबिनेट मंत्री एसपी सिंह बघेल को सौंपा ज्ञापन*
शिक्षामित्रों ने योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री प्रो.एसपी सिंह बघेल को ज्ञापन दिया। शिक्षामित्र संघ के जिलाध्यक्ष वीरेंद्र छौंकर ने कहा कि शिक्षामित्रों की मांग है कि भारत सरकार द्वारा नौ अगस्त 2017 को पारित अधिनियम में वर्णित अधिकारों से शिक्षामित्रों को आच्छादित करते हुए न्यूनतम अर्हता प्राप्त करने के लिए चार की छूट दी जाए। जैसा कि अधिनियम को क्रियान्वित करके उत्तराखंड की वर्तमान सरकार ने शिक्षामित्रों के जीवन को सुरक्षित किया है। भारत सरकार की संस्था पीएबी द्वारा देश के पैरा टीचरों का निर्धारित मानदेय व हाईकोर्ट के एक आदेश के क्रम में शिक्षामित्रों को नियत मानदेय 38,878 रुपये प्रदान किए जाएं। बेसिक शिक्षा योजना के अंतर्गत शिक्षामित्रों को आठ महीने से मानदेय प्राप्त नहीं हुआ है। उन्हें मानदेय दिलाया जाए। सातवे वेतन आयोग के प्रभावी होने की तिथि से शिक्षामित्रों के अवशेष वेतन एरियर माह जनवरी 2016 से मई 2017 तक का अविलम्ब नगद भुगतान कराने की कृपा करें। जिले में दूर दराज में तैनात समायोजित शिक्षामित्रों को विकल्प देते हुए मूल विद्यालय में से किसी एक विद्यालय में विकल्प के आधार पर वापस भेजा जाए। शिक्षामित्र संघ के जिलाध्यक्ष वीरेंद्र छौंकर का कहना है कि सरकार चाहे तो 1,72,000 शिक्षामित्रों के परिवारों में खुशियां लौट सकती है। शिक्षामित्रों ने आगरा में फतेहपुरसीकरी सांसद चौधरी बाबूलाल, भाजपा विधायक चौधरी उदयभान सिंह, भाजपा दक्षिण विधायक योगेंद्र उपाध्याय आदि को ज्ञापन सौंपा है। इस मौके पर शिशुपाल सिंह चाहर आदि शिक्षामित्र मौजूद थे।

*रिपोर्ट /अनिल सोनी/ 9793769225*

 
Top