जय युवा                       जय अटेवा

*अटेवा- मिशन पुरानी पेन्शन*

क्या है *अटेवा*???


*अटेवा* कोई राजनीतिक संगठन नहीं है।
*अटेवा* कोई धार्मिक संगठन नहीं है।
*अटेवा* कोई भाषायी संगठन नहीं है।
*अटेवा* किसी वर्ग विशेष के हितों के लिये प्रयासरत नहीं है।
*अटेवा* बहुउदेद्शीय संगठन नहीं है।

*अटेवा* सभी जाति, धर्मों, वर्गों विविध भाषायी व्यक्तियों को एकता के सूत्र में पिरोने वाला *साझा मंच* है।

*अटेवा* 1 अप्रैल, 2004 के बाद नियुक्त समस्त पेन्शनविहीन सरकारी कर्मचारियों की आवाज़ है।

*अटेवा* एकमात्र पुरानी पेन्शन बहाली हेतु चलाया गया एक मिशन है।

*अटेवा* का लक्ष्य सभी कर्मियों का सम्मान, उनका जीवन का अधिकार *पुरानी पेन्शन* पुनः लागू कराकर सभी के बुढ़ापे को सुरक्षित करना है।

*अटेवा* का मोटो है- सभी नागरिकों को समान अधिकार।

*अटेवा* इस लक्ष्य की प्राप्ति हेतु आप सभी का सक्रिय सहयोग चाहता है।

इसके लिये बन्धुजी के कुशल नेतृत्व में *30 अप्रैल, 2018* को हम सभी को *दिल्ली* चलना है।

साथियों, फैसला आपका है कि आप अपने हित की रक्षा हेतु स्वयं के साथ-साथ अन्यों को भी जागरूक बनायेंगे या नहीं। आपका यह प्रयास आपको पुरानी पेन्शन दिलाने के साथ ही इतिहास के पन्नों में दर्ज होगा।
आईये एक *स्वर्णिम इतिहास* का हिस्सा बनें और पूरे उत्साह के साथ कहें।-
*पुरानी पेन्शन हम पाकर रहेंगे।*
#30 अप्रैल को सब दिल्ली चलो...

एक पेंशनविहीन साथी
रिपुन्जय सिंह
जिला मीडिया प्रभारी
अटेवा
लखीमपुर खीरी
9450872010

 
Top