PURANI PENSION BAHALI MAHAHADTAL : 25 से 27 अक्टूबर 2018 तक होगा महाआंदोलन - primary ka master | basic shiksha news | updatemarts | uptet news | basic shiksha parishad
  • basic shiksha news updatemarts :

    Tuesday, 23 October 2018

    PURANI PENSION BAHALI MAHAHADTAL : 25 से 27 अक्टूबर 2018 तक होगा महाआंदोलन

    PURANI PENSION BAHALI MAHAHADTAL : 25 से 27 अक्टूबर 2018 तक होगा महा आंदोलन,

    *समस्त पेंशन विहीन उच्च अधिकारी महोदय समस्त जनपद- एवं शासन के उच्च अधिकारी ,उत्तर प्रदेश*
    महोदय/महोदया,
               *हम सभी पेंशन विहीन शिक्षक-कर्मचारी और अधीनस्थ अधिकारी आप सब से भी अनुरोध करते हैं कि पुरानी पेंशन बहाली की मुहिम में आप सब भी अपने स्तर से जो भी वांछित योगदान व सहयोग हो सके, आप लोग भी समर्थन,सहानुभूति और बैक डोर से सहयोग करने की कृपा करें* 🙏🙏🙏क्योंकि पुरानी पेंशन बहाली का मुद्दा सिर्फ हमारा ही नहीं आप सब का भी है।यह अलग बात है आप सब का वेतन एवं अन्य सुविधाएं इतनी ज्यादा है यदि आप लोगों को पुरानी पेंशन नहीं मिले तो भी आप लोगों पर कोई फर्क नहीं पड़ता। *लेकिन बड़ी विनम्रता के साथ आप सबको अवगत कराना चाहता हूं कि यदि इस पुरानी पेंशन बहाली की युवा क्रांति में आप द्वारा वांछित सहयोग प्रदान नहीं किया गया,🇮🇳 *और पुरानी पेंशन तो बहाल होकर ही रहेगी-यह अटल सत्य है। 🇮🇳🇮🇳लेकिन जब पेंशन बहाल होगी और उसका इतिहास लिखा जाएगा और इस दरमियान संघर्ष के कार्यक्रमों में आपके स्तर से यदि किसी भी प्रकार की बर्बरता या उत्पीड़नात्मक कार्यवाही किसी भी पेंशन विहीन शिक्षक- कर्मचारी या अधीनस्थ अधिकारी पर की गई तो जब पेंशन बहाल हो जाएगी तब आपकी धर्मपत्नी जी और आपके बच्चे तथा आपकी अंतरात्मा भी शायद आपको कभी माफ नहीं कर पाएगी।*🙏🙏🙏🙏🙏
    क्योंकि सत्य सत्य ही रहता है और *जब तक कोई व्यक्ति किसी पद पर रहता है तब तक उसको अपने द्वारा किए गए कार्यों पर विचार करने का समय ही नहीं मिलता लेकिन जब पद चला जाता है,और उम्र के अंतिम पड़ाव पर होता है, तो एक बार सही बात पर पछतावा जरूर होता है। इसलिए कहीं ऐसा ना हो कि आपके द्वारा और आपके स्तर से किए गए किसी भी उत्पीड़नात्मक कार्य की वजह से आपकी अंतरात्मा जिंदगी भर दिन-रात आपको सोने ना दे,और जब आप लोगों के रिटायरमेंट के बाद आपके बच्चे आपसे सवाल करेंगे कि आप जब अधिकारी थे तो पुरानी पेंशन बहाल करने के लिए जब संघर्ष के कार्यक्रम हो रहे थे तब काश आप ने सहयोग दे दिया होता तो आज हम लोगों की पुरानी पेंशन होती तो शायद आप अपने बच्चों के आगे निरुत्तर हो जाएंगे और आपका सर शर्म से झुक जाएगा,तब पछताने के सिवा कुछ नहीं होगा। इसलिए अपने अंतरात्मा की आवाज सुनते हुए और पुरानी पेंशन बहाली के लिए आप सब भी अपनी तरफ से हर स्तर का सहयोग,समर्थन और सहानुभूति रखने का कार्य करिएगा क्योंकि जब पेंशन बहाल होगी तो उसका लाभ भी आपको भी मिलेगा और हम लोग तो छोटे-मोटे सरकारी कर्मचारी, शिक्षक और अधीनस्थ अधिकारी हैं, हमको तो रिटायरमेंट के बाद बहुत ही कम धनराशि मिलेगी एक सामान्य जीवन जीने के लिए।लेकिन आप लोगों को पुरानी पेंशन से जो धनराशि प्राप्त होगी उससे आपका और आपकी आने वाली पीढ़ियों का बुढ़ापा और जवानी दोनों सकुशल गुजरेंगे* 🙏🐅🇮🇳
                 *शिक्षक-कर्मचारी-अधिकारी पुरानी पेंशन बहाली मंच के बैनर तले प्रदेश के समस्त पेंशन विहीन युवा शिक्षक-कर्मचारी और अधिकारी संविधान द्वारा प्रदत्त👉 मूल अधिकार अनुच्छेद 19 (1) (च) और 31(1) जिसके तहत सरकारी सेवक को पेंशन प्राप्त करने का अधिकार संविधान प्रदत्त है और राज्य को कार्यपालिक आदेश द्वारा इसे रोके रखने की शक्ति प्राप्त नहीं है।पेंशन कोई दान नहीं है जो सरकार की मर्जी और प्रसाद पर संदेय हो।पेंशन पाने का अधिकार सरकारी सेवक को प्राप्त एक मूल्यवान अधिकार है। यदि सरकार पेंशन कम करने या रोके रखने का मनमाना आदेश पारित करती है तो उसे संविधान के अनुच्छेद 19 (1) (च) और 31(1) द्वारा  प्रत्याभूत संपत्ति संबंधी अधिकारों का उल्लंघन माना जायेगा।और अभी हाल ही में सर्वोच्च न्यायालय ने पेंशन को लेकर बहुत बड़ा बयान दिया था, कि पेंशन को हर सरकारी सेवक को प्राप्त करने का अधिकार, नैतिक व सैद्धांतिक अधिकार है। और कोई इस अधिकार से सरकारी सेवक को वंचित नहीं कर सकता।* हम सभी पेंशन विहीन युवा पुरानी पेंशन प्राप्त करने के लिए अपना सर्वस्व निछावर करने के लिए तैयार हैं। *वेतन कटे या निलंबन हो हम सब की चट्टानी एकता और हमारे संगठन की संकल्पबद्धता हमारी ढाल होगी।* हम सभी पेंशन विहीन शिक्षक-कर्मचारी और अधीनस्थ अधिकारी लोकतांत्रिक ढंग से शांतिपूर्वक, *अभी तो तीन दिवसीय हड़ताल 25-26 व 27 के कार्यक्रम को सफल बनायेंगे,* और यदि पेंशन बहाल न हुई तो आगे और भी संघर्ष कार्यक्रम में प्रतिभाग किया जाएगा। *लेकिन कोई भी ऐसा कार्य या व्यवहार हम लोगों द्वारा नहीं किया जाएगा जिससे सरकारी संपत्ति को कोई नुकसान हो या ऐसा कोई भी कार्य व्यवहार जिससे लोकतांत्रिक व्यवस्था पर किसी प्रकार की आंच आये। हमारी पुरानी पेंशन बहाली का आदेश जारी हो जाए हम लोग दोगुनी ऊर्जा के साथ अपने अपने विभाग में जो भी जिम्मेदारियां मिली हैं उनको रिटायरमेंट तक बखूबी निष्ठा व पूरी ईमानदारी के साथ निभाने के लिए वचनबद्ध हैं।* पेंशन हक है, लेकर रहेंगे। *पुरानी पेंशन प्राप्त करना हम सभी पेंशन विहीन शिक्षकों-कर्मचारियों और अधिकारियों का संविधान प्रदत्त मूल अधिकार है और संविधान में यह भी वर्णित है कि कोई भी सरकार और व्यवस्था किसी भी सरकारी सेवक को उसके मौलिक अधिकार से वंचित नहीं कर सकती और हमारा संविधान हम सभी सरकारी सेवकों को भी अपने मूल अधिकार की रक्षा के लिए लोकतांत्रिक ढंग से  बिना कोई तोड़फोड़ और सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाए बिना हड़ताल- धरना प्रदर्शन आदि करने की इजाजत देती है।* धन्यवाद।।🙏🐅🇮🇳🤝✌
    पेंशन कोई भीख नहीं है हम सभी का मूल अधिकार है और इसे लेकर रहेंगे तथा पुरानी पेंशन बहाली तक हड़ताल में शत प्रतिशत योगदान देंगे और आगे भी जो भी संघर्ष का कार्यक्रम प्रस्तावित होगा उसको भी बखूबी निभाएंगे। *आंधी आए या तूफान आए, हड़ताल तो पूर्ण रूप से होकर रहेगी।*🇮🇳🙏
    *समुंदर में बांध-बांध के, पानी को रोक दे।*  🇮🇳 *है किसकी मजाल जो अब,पेंशन बहाली को रोक ले।।*🐅🇮🇳🤝✌
    ----------------------------------------
    -- पुरानी पेंशन *आज़ाद* होकर रहेगी।🐅🇮🇳🐅🇮🇳🐅🇮🇳
    ----------------------------------------
    *शिक्षक-कर्मचारी-अधिकारी एकता जिंदाबाद*
    *युवाक्रांति जिंदाबाद-मातृशक्ति जिंदाबाद*
    *शिक्षक-कर्मचारी-अधिकारी पुरानी पेंशन बहाली मंच जिंदाबाद*🐅🇮🇳🤝✊✌
    निवेदक -- *शिक्षक कर्मचारी अधिकारी पुरानी पेंशन बहाली मंच एवं समस्त पेंशन विहीन शिक्षक- कर्मचारी-अधिकारी उत्तर प्रदेश।*