Desh bhakti Slogan & Quotes In Hindi download गणतंत्र दिवस पर लगवाएं विद्यालयों में हिंदी नारे - primary ka master | basic shiksha news | updatemarts | uptet news | basic shiksha parishad
  • basic shiksha news updatemarts :

    Saturday, 26 January 2019

    Desh bhakti Slogan & Quotes In Hindi download गणतंत्र दिवस पर लगवाएं विद्यालयों में हिंदी नारे

    Desh bhakti  Slogan & Quotes In Hindi download गणतंत्र दिवस पर लगवाएं विद्यालयों में हिंदी नारे



    ■ गणतन्त्र दिवस पर  हिन्दी नारे ! Republic Day Slogans & Quotes In Hindi

    ■ गणतंत्र दिवस पर नारा – गणतंत्र दिवस Per Nare – गणतंत्र दिवस पर नारे

    ■ Republic Day Slogan In Hindi – Happy Republic Day Slogan In Hindi

    सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्तान हमारा, हम बुलबुले है इसकी यह गुलसितां हमारा।

    हमें जान से प्यारा यह गणतन्त्र हमारा है, याद रखेंगे शहीदों को जो बलिदान तुम्हारा है।

    आओ मिलकर एक हो जाए, ख़ुशी से गणतन्त्र मनाये।

    आओ इस दिन का मजा उठाये, हम मिलकर गणतन्त्र मनाये।

    हर तूफान को मोड़ दे जो हिन्दोस्तान से टकराए,  चाहे तेरा सीना हो छलनी तिरंगा उंचा ही लहराए।

    गणतन्त्र मनाये, अपना देश बढ़ाये।

    धरती हरी भरी हो आकाश मुस्कुराए, कुछ कर दिखाओ ऐसा इतिहास जगमगाए।

    यह है बलिदानों की धरती, हर कोई करता इसे सलाम. बहती है यहाँ प्रेम की गंगा, हर दिल में बसता है भगवान।

    हमको मिला है एक संविधान, जिसमे है हमारा सुखी विधान।

    इतना ही कहेना काफी नही भारत हमारा मान है, अपना फ़र्ज़ निभाओ देश कहे हम उसकी शान है।

    वीर चले है देखो लड़ने, दुश्मन से सरहद पर भिड़ने।

    ना जियो धर्म के नाम पर, ना मरो धर्म के नाम पर, इंसानियत ही हे धर्म वतन का बस जियों वतन के नाम पर।

    पहले हम खुद को पहचाने फिर पहचानें अपना देश, एक दमकता सत्य बनेगा, नहीं रहेगा सपना देश।

    15 अगस्त हो या 26 जनवरी, ये दिन तो है खुशियों की घडी।

    गाँधी जी का था यह सपना, हो गणतन्त्र देश भी अपना।

    आज फिर से गणतन्त्र दिवस आया है, जिसके लिए सेनानियों ने अपना खून बहाया है।

    चलो फिर से खुद को जगाते है, देश के शहीदों के आगे अपना सिर झुकाते है।

    कसम गणतंत्र दिवस पर ये खायेगे, हम सभी एकजुटता से मिलकर रहेंगे।

    न तेरा देश, न मेरा देश. यह भूमि भारत है हम सभी का देश।

    देशभक्तों के बलिदान से आजाद हुए है हम, कोई पूछे कौन हो तुम तो गर्व से कहना भारतीय है हम।

    चलो मिलकर अखण्ड भारत बनाये, जिसमे सभी को अधिकार दिलाये।

    देश भक्तों के बलिदान से, स्वातंत्र्य हुए है हम. कोई पूछे कोन हो, तो गर्व से कहेंगे इंडियन है हम।

    देशभक्ति की अलख जगाये, चलो अब रिपब्लिक डे मनाये।

    गांधीजी का सपना सत्य बना, तभी तो देश गणतंत्र बना।

    यह एक दिवस नहीं यह तो एक पर्व है, जिस पर हम सभी को बहुत ज्यादा गर्व है।

    याद रखेंगे वीरो तुमको हरदम, यह बलिदान तुम्हारा है, हमको तो है जान से प्यारा यह गणतंत्र हमारा है।

    इस दिन के लिए वीरो ने अपना खून बहाया है। झूम उठो देशवासियों गणतंत्र दिवस फिर आया है।

    अपनी जमीन अपना वतन, आवाज दो हम एक है।

    सबके अधिकारों का रक्षक अपना ये गणतंत्र पर्व है, लोकतंत्र ही मंत्र हमारा हम सबको इस पर्व पर गर्व है।

    कश्मीर से कन्याकुमारी, भारत माता एक हमारी।

    देश भक्तों के बलिदान से, स्वातंत्र्य हुए है हम। कोई पूछे कोन हो, तो गर्व से कहेंगे इंडियन है हम।

    ना जियो धर्म के नाम पर, ना मरो धर्म के नाम पर, इंसानियत ही हे धर्म वतन का बस जियों वतन के नाम पर।

    कसम गणतंत्र दिवस पर ये खायेगे, हम सभी एकजुटता से मिलकर रहेंगे।

    गांधीजी का सपना सत्य बना, तभी तो देश गणतंत्र बना।

    गणतंत्र हमारा चिरायु हो।

    मेरे देश में एक तंत्र है, यहाँ पर एकगणतंत्र है।

    देशभक्ति की अलख जगाये, चलो अब रिपब्लिक डे मनाये।

    आओ इस दिन का मजा उठाये, हम मिलकर गणतन्त्र मनाये।

    जब भी हम गणतन्त्र मनाएंगे, शहीदों को न भूल पाएंगे।

    आज फिर से गणतन्त्र दिवस आया है, जिसके लिए सेनानियों ने अपना खून बहाया है।

    हमें जान से प्यारा यह गणतन्त्र हमारा है, याद रखेंगे शहीदों को जो बलिदान तुम्हारा है।

    एक देश अपना भारत, जो बने श्रेष्ठ भारत।

    यह एक दिवस नहीं यह तो एक पर्व है, जिस पर हम सभी को बहुत ज्यादा गर्व है।

    पूरी दुनिया में चलो नाम कमाए, सब मिलकर एक मजबूत गणतन्त्र बनाये।

    चलो मिलकर अखण्ड भारत बनाये, जिसमे सभी को अधिकार दिलाये।

    देशभक्तों के बलिदान से आजाद हुए है हम, कोई पूछे कौन हो तुम तो गर्व से कहना भारतीय है हम।

    न तेरा देश, न मेरा देश। यह भूमि भारत है हम सभी का देश।

    चलो फिर से खुद को जगाते है, देश के शहीदों के आगे अपना सिर झुकाते है।

    गाँधी जी का था यह सपना, हो गणतन्त्र देश भी अपना।

    15 अगस्त हो या 26 जनवरी, ये दिन तो है खुशियों की घडी।

    हमको मिला है एक संविधान, जिसमे है हमारा सुखी विधान।

    यह है बलिदानों की धरती, हर कोई करता इसे सलाम। बहती है यहाँ प्रेम की गंगा, हर दिल में बसता है भगवान।

    गणतन्त्र मनाये, अपना देश बढ़ाये।

    सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्तान हमारा, हम बुलबुले है इसकी यह गुलसितां हमारा।

    भारत माता तेरी गाथा, सबसे ऊँची तेरी शान. तेरे आगे शीश झुकाए, दे तुझको हम सब सम्मान।