17000 anudeshak salary court order अनुदेशकों को 17000 मानदेय देने का कोर्ट ने दिया फैसला,मार्च 2017 से 9% ब्याज के साथ योगी सरकार दे मानदेय,कोर्ट का आदेश देखें - प्राइमरी का मास्टर - UPTET | Primary Ka Master | Basic Shiksha News | Shiksha Mitra News
  • primary ka master

    UPTET | PRIMARY KA MASTER | BASIC SHIKSHA NEWS | SHIKSHA MITRA


    Wednesday, 3 July 2019

    17000 anudeshak salary court order अनुदेशकों को 17000 मानदेय देने का कोर्ट ने दिया फैसला,मार्च 2017 से 9% ब्याज के साथ योगी सरकार दे मानदेय,कोर्ट का आदेश देखें

    anudeshak salary court order अनुदेशकों को 17000 मानदेय देने का कोर्ट ने दिया फैसला,मार्च 2017 से 9% ब्याज के साथ योगी सरकार दे मानदेय,कोर्ट का आदेश देखें




    A writ in the nature of mandamus is issued directing the
    opposite party Nos.2 and 4 i.e. the Chief Secretary, Government of
    U.P., Lucknow and the State Project Direction (Sarva Shiksha
    Abhiyan), U.P., Lucknow to pay the arrears of enhanced honorarium
    at the rate of Rs.17000/- per month to the petitioners with effect from
    the month of March, 2017 till date.

    anudeshak salary court order अनुदेशकों को 17000 मानदेय देने का कोर्ट ने दिया फैसला,मार्च 2017 से 9% ब्याज के साथ योगी सरकार दे मानदेय,कोर्ट का आदेश देखें

    17000 anudeshak salary court order page no 1 



    "this Court treating the
    aforesaid inaction on the part of the opposite parties as harassment of
    the petitioners, the petitioners are allowed interest @ 9% per annum
    on the arrears of enhanced honorarium, as directed above"

    17000 anudeshak salary court order page 2



    PRIMARY KA MANSTER WEELKY TOP NEWS

    PRIMARY KA MASTER MONTHLY TOP NEWS

    PRIMARY KA MASTER TOP NEWS

    PRIMARY KA MASTER NOTICE

    नोट:-इस वेबसाइट / ब्लॉग की सभी खबरें google search व social media से लीं गयीं हैं । हम पाठकों तक सटीक व विश्वसनीय सूचना/आदेश पहुँचाने की पूरी कोशिश करते हैं । पाठकों से विनम्रतापूर्वक अनुरोध है कि किसी भी ख़बर/आदेश का प्रयोग करने से पहले स्वयं उसकी वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें । इसमें वेबसाइट पब्लिशर की कोई जिम्मेदारी नहीं है । पाठक ख़बरों/आदेशों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा ।