बलिया - बच्चों से mdm foodgrains मंगवाने पर हेडमास्टर suspend, सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने पर हुई कार्यवाही, - प्राइमरी का मास्टर - UPTET | Primary Ka Master | Basic Shiksha News | Shiksha Mitra News लॉकडाउन के दौरान पढ़ाई कैसे इस सम्बन्ध में टिप्स : इस समय हमारा देश नावेल कोरोना वायरस (COVID-19) महामारी से जूझ रहा है । पूरे देश में लॉकडाउन के कारण स्कूल बंद हैं । जिससे बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है । ऐसे में शिक्षक मोबाइल द्वारा अभिभावकों व बच्चों से बात करें । उन्हें कोरोना वायरस से बचाव के तरीके बताएं ।बच्चों को पढ़ाई के लिए प्रेरित करें । शिक्षा विभाग द्वारा जारी एजुकेशनल ऐप Diksha, E-Pathshala, Nishtha ऐप में डिजिटल पठन पाठन सामग्री है । ये Google Play Store में उपलब्ध हैं । स्मार्टफोन में डाउनलोड कर अभिभावकों से बच्चों को घर पर ही पढ़ाई के लिए प्रेरित करें । यूनिसेफ द्वारा प्रायोजित "मीना की दुनिया" व " फुल ऑन निक्की" रेडियो कार्यक्रम सुनाएं । उनके साथ शैक्षिक गेम जैसे पहेली आदि खेले,आलेख, सुलेख, चित्रकला संबंधी गतिविधियाँ कराएँ ।
  • primary ka master

    Monday, 10 February 2020

    बलिया - बच्चों से mdm foodgrains मंगवाने पर हेडमास्टर suspend, सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने पर हुई कार्यवाही,

    बलिया - बच्चों से mdm foodgrains मंगवाने पर हेडमास्टर suspend, सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने पर हुई कार्यवाही,

    बलिया - बेसिक शिक्षक परिवार न्यूज : जिले के एक प्राथमिक स्कूल में बच्चों के द्वारा मिड डे मील का राशन ठेला में धोया जा रहा था । जिसका वीडियो वायरल होने के बाद बेसिक शिक्षा विभाग हरकत में आया और वहां के प्रधानाध्यापक को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर दिया गया है ।

    हालांकि हेडमास्टर का कहना कि बच्चे स्वयं अनाज लाने के लिए गए थे । उन पर किसी प्रकार का दबाव नही बनाया गया । 
    बतादें की बेसिक स्कूलों में दोपहर के पका पकाए व गरमा गरम भोजन की व्यवस्था के लिए मिड डे मील योजना का संचालन हो रहा है । जिसमें स्कूलों में खाद्यान्न पहुँचाने की जिम्मेदारी कोटेदार की है । अधिकतर स्कूलों में यही शिकायत मिलती है कि कोटेदार स्कूल तक राशन नही पहुँचाता है । इसलिए शिक्षक स्वयं या किसी न किसी माध्यम से राशन स्कूल पहुँचाने की व्यवस्था करते हैं ।

    बच्चों से राशन धुलवाने के आरोप में हेडमास्टर के निलंबन के बाद भी एक बड़ा सवाल यह है कि क्या कोटेदार भी सजा का हकदार नही ? 

    देखा जाए तो प्रकरण का असली दोषी तो कोटेदार ही है । अगर वह राशन स्कूल पहुँचा देता तो मासूम बच्चों को राशन न ढोना पड़ता । 

    बलिया - बच्चों से mdm foodgrains मंगवाने पर हेडमास्टर सस्पेंड, सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने पर हुई कार्यवाही
    बलिया - बच्चों से mdm foodgrains मंगवाने पर हेडमास्टर सस्पेंड, सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने पर हुई कार्यवाही

    Like us on Facebook

    Like US on Facebook

    PRIMARY KA MASTER NOTICE

    नोट:-इस वेबसाइट / ब्लॉग की सभी खबरें google search व social media से लीं गयीं हैं । हम पाठकों तक सटीक व विश्वसनीय सूचना/आदेश पहुँचाने की पूरी कोशिश करते हैं । पाठकों से विनम्रतापूर्वक अनुरोध है कि किसी भी ख़बर/आदेश का प्रयोग करने से पहले स्वयं उसकी वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें । इसमें वेबसाइट पब्लिशर की कोई जिम्मेदारी नहीं है । पाठक ख़बरों/आदेशों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा ।