ई-पाठशाला में विद्यार्थियों मिलेगा होमवर्क : E pathshala Homework For Basic school students

बलरामपुर। जिले में संचालित होने वाली ई-पाठशाला में प्राथमिक, उच्च प्राथमिक व कंपोजिट स्कूलों के सभी छात्र-छात्राओं को पढ़ाने के साथ होमवर्क भी दिए जाएंगे। ई-पाठशाला में होमवर्क देते समय छात्र-छात्राओं के अभिभावकों की उपस्थिति अनिवार्य है। जिले के सभी 10 शिक्षा क्षेत्रों के बीईओ को ई-पाठशाला के साथ-साथ स्कूलों में होने वाली गतिविधियों की निगरानी करनी होगी, जिससे कोरोना काल में छात्र-छात्राएं शिक्षा से वंचित न रहें। उप शिक्षा निदेशक देवीपाटन मंडल गोंडा/डायट प्राचार्य विनय मोहन वन ने वर्चुअल बैठक की अध्यक्षता करते हुए 14 बिंदुओं पर गहन समीक्षा की।


बीएसए डॉ. रामचंद्र, बीईओ गैसड़ी ह्दयशंकर लाल श्रीवास्तव, बीईओ तुलसीपुर महेन्द्र कुमार, बीईओ सदर मनीराम वर्मा के साथ सभी एआरपी, एसआरजी व डायट मेंटर वर्चुअल बैठक में शामिल हुए। डीसी प्रशिक्षण मोहित देव त्रिपाठी ने वर्चुअल बैठक का संचालन किया। मिशन प्रेरणा की ई-पाठशाला फेज चार में साप्ताहिक ई-कंटेंट को साझा करने व अभिभावकों को बुलाकर छात्र-छात्रओं को होमवर्क दिए जाने वाले प्रगति की समीक्षा हुई।

प्रेरणा साथी के रजिस्ट्रेशन, सहज आधारशिला क्रियान्वयन संदर्शिका, शिक्षक डायरी, एनसीईआरटी की पुस्तकों, प्रिंट रिच पोस्टर वितरण प्रगति, दो दिवसीय प्रशिक्षण की स्थिति, सभी शिक्षा क्षेत्रों के शिक्षकों की तरफ से किए गए शैक्षिक नवाचार व दीक्षा एप पर प्रशिक्षण की प्रगति के बारे में उप शिक्षा निदेशक ने समीक्षा की। समीक्षा में लक्ष्य के सापेक्ष दीक्षा एंड रीड अलांग एप डाउनलोड की प्रगति, रीड अलांग कार्यक्रम के तहत डेमोंस्ट्रेशन स्कूल विकसित करने के संबंध में 9 अप्रैल 2021 को जारी पत्र की प्रगति, निर्धारित चेकलिस्ट और एजेंडा के अनुसार शिक्षक संकुल बैठक के प्रगति के बारे में विचार साझा किए गए।
ई-पाठशाला से जुड़ अभिभावकों की संख्या, टेलीविजन देखने वाले छात्र-छात्राओं की संख्या, प्राथमिक स्तर पर कक्षा तीन व पांच और उच्च प्राथमिक स्तर पर स्काउट गाइड के चयन, पंजिका निर्माण व वर्दी वितरण की समीक्षा हुई। एआरपी, एसअरजी व डायट मेंटर की तरफ से विद्यालयों के ई-मेंटरिंग की स्थिति और अन्य बिंदुओं पर भी गहन समीक्षा हुई।